जिंदगी की आपाधापी से उपजी अकुलाहट, प्रतिस्पर्धा का कहर, अपनों से बढ़ती दूरियां, संवेदनाओं की सिकुड़ती जमीन, काम के बढ़ते घंटे और महत्वाकांक्षाओं की ऊंची उड़ानों ने हमारी जिंदगी को तनाव से भर दिया है। हालांकि, कोमल भावनाओं की टूटती इन कड़ियों के बीच खुश रहने के लिए हमारे पास एक उम्दा उपाय जोक्स या चुटकुले हैं। ये हमारी जिंदगी में जिंदादिली और गर्माहट घोलते हैं। इससे न सिर्फ आसपास की फिजा खुशनुमा बनती है, बल्कि हम बेहतर मानसिक, शारीरिक, सामाजिक जीवन जीने में भी सक्षम होते हैं। साफ तौर पर इसका लाभ हमें करियर की ग्रोथ के रूप में भी मिलता है।

दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Jokes :

अध्यापक : टेबल पर चाय किसने गिराई?

इसे अपनी मातृभाषा मे बोलो।

छात्र : मातृभाषा मतलब मम्मी की भाषा में ?

अध्यापक : हां ।

छात्र : अरे छाती कूटा म्हारा जीव लियां बिना थने चैन नी पड़े ?

ओ की थारो बाप ढोली चाय ?

अध्यापक बेहोश !

दादी अपनी शादी की वीडियो देख रही थीं।

पोता- दादी ये आदमी कौन है?

दादी- अरे यही तो तेरे दादा हैं।

पोता- दादा तो इतने स्मार्ट लग रहे हैं,

फिर आप इस बुड्ढे के साथ क्यों रहती हो ???

सभी हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि हंसने से हमारा इम्यून सिस्टम बेहतर होता है। इससे ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है, जिससे दिल की बीमारियों की संभावना कम होती है। हम शारीरिक तौर पर भी हल्का महसूस करते हैं, जिससे हमारी याददाश्त भी बढ़ जाती है। खुश रहने वाले व्यक्ति से हर कोई मिलना और संबंध बनाना चाहता है। ऐसे लोग परिवार और समाज के साथ ऑफिस में भी अधिक लोकप्रिय होते हैं। सही समय पर सटीक जोक्स से आप बेरंग माहौल में भी रंग घोल देते हैं। इससे आपकी पर्सनैलिटी आकर्षक होती है और लोग आपकी तरफ खिंचे चले आते हैं।