जागरण संवाददाता, चाईबासा : सदर अस्पताल में गुरुवार को मेल वार्ड में एक अर्ध विक्षिप्त 30 वर्षीय व्यक्ति को एडमिट किए जाने से मेल वार्ड के अन्य सामान्य मरीजों को काफी परेशानी हो रही है। मरीज का नाम राजीव व पता टाटा बताया जा रहा है। गुरुवार को वह शहर के किसी सड़क के किनारे पड़ा हुआ था। डॉक्टर के अनुसार वह नशे में भी था। शहर के नरेश नामक समाजसेवी की नजर उस पर पड़ी तो उसे सदर अस्पताल पहुंचाया। मेल वार्ड स्थित अन्य मरीजों के अटेंडरों का कहना है कि विक्षिप्त मरीज दिन रात शोर मचाता एवं चिल्लाते रहता है। वह अपना तन का कपड़ा भी उतार कर फेंक दे रहा है। शुक्रवार को वह बेड पर नंगा ही पड़ा हुआ था। जिसे बाद में लोगों ने चादर से ढक दिया। शुक्रवार को वह वार्ड से भी निकल कर भाग गया था। जब स्वास्थ्य कर्मियों की नजर उन पर पड़ी तो विक्षिप्त मरीज को वापस बेड पर लाया गया। विक्षिप्त द्वारा बेड पर ही पेशाब पैखाना किए जाने के कारण अन्य मरीजों को काफी परेशानी हो रही है। मरीज का कोई अटेंडर नहीं रहने के कारण मरीज अपने बेड पर स्थिर नहीं रहा रहा है। विक्षिप्त होने के कारण अगल-बगल के अन्य मरीज भी परेशान और डरे सहमे हैं विक्षिप्त द्वारा अगल-बगल के मरीजों के साथ मारपीट या अन्य घटनाओं को अंजाम दे सकता है। इसकी संभावना को देखते हुए अगल बगल बेड के मरीजों के अटेंडर काफी भयभीत और डरे सहमे हैं। विक्षिप्त मरीज किसी की बात नहीं मान रहा। जिस कारण मरीज ही नहीं एएनएम व स्वास्थ्य कर्मी भी परेशान हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस