जैंतगढ़ (पश्चिमी सिंहभूम), जेएनएन। झारखंड के कोल्हान प्रमंडल के पश्चिमी सिंहभूम जिले में कुदाल से काटकर एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। हत्या को जमीन विवाद की वजह से अंजाम दिया गया। हत्या की यह वारदात जगन्नाथपुर थाना इलाके के जुगीनंदा तिलैपी गांव में हुई।

घटना की खबर पाकर जगन्नाथपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रदीप उरांव एवं जगन्नाथपुर थाना प्रभारी मधुसूदन मोदक घटनास्थल पर पहुंचे और जांच पड़ताल शुरू की। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। हत्या चार भतीजों ने मिलकर की। पुलिस ने पत्नी के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर एक साजिशकर्ता को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के अनुसार मनोहर चातार (40) अपने पशुओं को चरा कर वापस घर लौट रहा था। बुधवार की शाम 4:30 बजे जब वो जंगल से खेत की ओर उतरा, उसी समय खेत में पहले से ही घात लगाए चार लोग सामने आ गए। चारों ने मनोहर पर कुदाल से वार कर दिया। कुदाल से वार कर मनोहर को मारने के बाद बीहड़ की ओर घसीट कर ले जाने का प्रयास किया। घटना मनोहर के घर से मात्र 500 गज दूर उसके खेत में घटी। उस समय उसका 10 वर्षीय पुत्र भी साथ था। जब उसने उसी खानदान के चार लोग जामदार चातार ,सोबन चातार, रोबिन चातार , संजीत चातार को अपने पिता के साथ मारपीट करते देखा तो किसी प्रकार वहां से भागकर अपनी मां को घटना की जानकारी दी।

बेटे ने घर जाकर दी मां को जानकारी

 हत्या की सूचना के बाद गांव पहुंचे एसडीपीओ व अन्य। 

जब उसकी मां घटनास्थल पर पहुंची तब तक हत्यारे फरार हो चुके थे और मनोहर का खून से लथपथ तड़पता शरीर ठंडा पड़ चुका था। हत्यारों ने मनोहर की गर्दन, सिर और छाती और पेट पर गंभीर प्रहार किया था। इसके बाद मनोहर की पत्नी चीनी चातर ने गांव के मुंडा को घटना की जानकारी दी। गुरुवार सुबह जगन्नाथपुर के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रदीप उरांव, थाना प्रभारी मधुसूदन मोदक अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। लाश का पंचनामा बनाकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल चाईबासा भेज दिया। मनोहर की पत्नी ने अपने पति की हत्या के आरोप में चारों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की। घटना के साजिशकर्ता के रूप में इस खानदान के गोरा चातर को गिरफ्तार किया गया। हत्यारोपित रिश्ते में मृतक के भतीजे बताए गए।

लंबे समय से चल रहा था विवाद

मनोहर की पत्नी चीनी चातर ने बताया कि लंबे समय से खानदान के बीच जमीन का विवाद चल रहा है। दो-तीन साल पहले भी इन्हीं आरोपियों ने मेरे पति पर जानलेवा हमला किया था। उन्हें एक पेड़ में बांधकर मार कर अधमरा कर दिया था। वह जमीन नहीं देने पर जान से मार देने की हमेशा धमकी देते थे। आखिरकार जमीन के कारणों से उनके भतीजे ने ही उसकी जान ले ली। मनोहर अपने पीछे पत्नी एवं चार बच्चों को छोड़ कर चल गए।

ये कहते डीएसपी

हत्याकांड में संलिप्त चारों आरोपित फरार हैं। बहुत ही जल्द ही चारों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। दोनों परिवारों में पहले से जमीन को लेकर रंजिश चल रही थी।  हम लोग हर पहलु पर तफ्तीश कर रहे हैं। बहुत जल्द आरोपित सलाखों के पीछे होंगे।

-प्रदीप उरांव, डीएसपी, जगन्नाथपुर।

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस