चाईबासा (जागरण संवाददाता)। माओवादी जीवन कंडुलना का खास सहयोगी 45 साल का करन सिंह मुंडा को सीआरपीएफ 60 बटालियन और जिला पुलिस बल की संयुक्त टीम ने गुरुवार को धर दबोचा। पुलिस ने उसे चक्रधरपुर अनुमंडल अस्पताल के सामने से फिल्मी स्टाइल में उठाया और चाईबासा ले आयी।

माओवादी संगठन में वो करन सिंह मुंडा उर्फ करम सिंह मुंडा उर्फ जगदीश के नाम से काम करता है। चाईबासा में पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा ने करन की गिरफ्तारी का खुलासा करते हुए बताया कि ये मूलरूप से टेबो थाना अंतर्गत गोसरा गांव का रहने वाला है। वर्तमान में गुदड़ी थाना अंतर्गत बुरीउली गांव में रह रहा था। पुलिस को उसके चक्रधरपुर क्षेत्र में भ्रमणशील होने की सूचना मिली।

सूचना के आलोक में चक्रधरपुर थाना प्रभारी गोपीनाथ तिवारी और सोनुवा थाना प्रभारी कुलदीप कुमार ने सीआरपीएफ 60 बटालियन की क्यूआरटी टीम के साथ मिलकर चक्रधरपुर में सघन छापामारी अभियान चलाया। इस दौरान चक्रधरपुर अनुमंडल अस्पताल के सामने नजर आने पर उसे धर दबोचा गया।

सूचना देने व लेवी वसूलने का काम करता था जीवन कंडुलना

करण जीवन कंडुलना तथा उसके दस्ता सदस्यों के रहने तथा चक्रधरपुर, सोनुवा, गोइलकेरा, गुदड़ी, टेबो, बंदगांव थाना क्षेत्र में भ्रमण कर ठेकेदार के बारे में जानकारी लेने, इसकी सूचना जीवन कंडुलना के दस्ते को देकर लेवी वसूलने, लेवी नहीं देने पर विकास कार्य में लगी मशीनों को जलाने तथा पूरे क्षेत्र में भाकपा माओवादी की दहशत फैलाने का काम करता था। वर्तमान में यह सोनुवा थाना अंतर्गत दो कांडों में वांटेड था। उसे आज जेल भेज दिया गया है। बाद में रिमांड पर लेकर पूछताछ की जायेगी।

जेसीबी व ट्रैक्‍टर को आग लगाने की घटना में थी संलिप्‍तता

पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा ने बताया कि करन सिंह मुंडा नौ जनवरी 2018 में सोनुवा थाना अंतर्गत कुदाबुरू में कैनाल के काम में ठेकेदार द्वारा लेवी नहीं दिये जाने के कारण एक जेसीबी, चार ट्रैक्टर आग के हवाले कर देने के कांड में संलिप्त था। 25 अप्रैल 2018 को ही लेवी नहीं देने पर एक ठेकेदार के पोकलेन, मिक्सर मशीन तथा ट्रैक्टर को जलाकर दहशत फैलायी गयी थी। इस कांड में भी करन वांछित था। 30 मई 2018 को गुदड़ी थाना अंतर्गत मुखिया सीता मुंडा की जीवन कंडुलना दस्ता ने हत्या कर उसकी कमांडर जीप जला दी थी। सीता मुंडा के पुलिस का मुखबिर होने की खबर करन ने ही दस्ते को दी थी। लोकसभा चुनाव के दौरान 12 अप्रैल 2019 को गोइलकेरा थाना अंतर्गत कुईड़ा के पास बन रहे फारेस्ट गार्ड की बिल्डिंग को लैंड माइंस लगाकर माओवादियों ने उड़ा दिया था। करन ने संगठन को लाजिस्टिक उपलब्ध कराने में भूमिका निभाई थी। केंडावीर से नचलदा जाने वाले रास्ते में जीवन कंडुलना दस्ता ने पुलिस पार्टी को नुकसान पहुंचाने के लिए लैंड माइंस लगाई थी। इसे पुलिस ने एक सितंबर 2019 को बरामद कर एक नक्सली सहयोगी को गिरफ्तार किया था। उक्त अभियुक्त के द्वारा लाजिस्टीक उपलब्ध करवाने एवं आइडी लगवाने में करन की भी संलिप्तता पायी गयी है। 

मोटरसाइकिल व मोबाइल बरामद

गिरफ्तार माओवादी सहयोगी करन के पास से पुलिस ने एक काले रंग की मोटरसाइकिल व एक मोबाइल बरामद किया है। इसकी गिरफ्तारी को पुलिस बड़ी उपलब्धि मान रही है। एसपी ने इस सफलता के लिए 60 बटालियन के कमांडेंट आनंद कुमार जेराई और द्वितीय कमान अधिकारी राजू नायक की मुक्त कंठ से प्रशंसा की।

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस