संवाद सूत्र, बंदगांव : बुधवार को हिरनी फॉल में झारखंड के पर्यटन स्थलों के सुरक्षाकर्मियों की बैठक आयोजित हुई। जिसमें कहा कि पर्यटन स्थलों में साफ-सफाई देखरेख सुरक्षा व्यवस्था व जान जोखिम में डालकर डूबते पर्यटकों को बचाना गोताखोर का कार्य, रोकड़ पंजिका संधारण करना, टिकट काटना आदि सभी तरह के कार्य झारखंड पर्यटन विभाग द्वारा उनसे लिए जाते हैं। फिर भी विभाग हमें अपना कर्मचारी नहीं मान रही है। जिसके कारण सुरक्षाकर्मियों में काफी रोष है। इतने कार्य हम सुरक्षाकर्मियों से लेने के बावजूद हमारे मानदेय वृद्धि, पीएफ, जीवन बीमा दुर्घटना बीमा चिकित्सा सुविधा ड्रेस आदि नहीं दी जा रही है। दो जून को विभाग के पदाधिकारियों के साथ बैठक में जीवन बीमा, टीए, डीए, ड्रेस देने संबंधी मांगों पर सहमति बनी थी, लेकिन आज तक अमल में नहीं लाया गया। जिसके कारण सभी पर्यटन स्थलों के सुरक्षाकर्मियों की उल्लेखित मांगे 30 सितंबर तक पर्यटन विभाग पूरी नहीं करता है, तो 6 अक्टूबर से सभी सुरक्षाकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। झारखंड पर्यटन सुरक्षा समिति रांची झारखंड को मजबूती प्रदान करने पर भी चर्चा की गई। सभी सुरक्षाकर्मी संगठित होकर अपने हक और अधिकार की लड़ाई पुरजोर ढंग से लड़ेंगे। 27 सितंबर को विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर हुंडरू, जोन्हा, सीता, दशम, पंचघाघ एवं हिरनी फॉल आदि पर्यटन स्थलों में सुरक्षाकर्मी पर्यटन विभाग के खिलाफ काला बिल्ला लगाकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। बैठक में ग्राम मुंडा लेमसा पुरती राज किशोर प्रसाद बालेश्वर बेतिया जोगेश्वर अहीर राजेंद्र महतो नंदराय पूर्ति कांडे मुंडा दुर्गा भांगरा सुशांत लोहरा प्रदीप महतो बुधराम बेदिया रंजन कुमार विद्या संजीव पूर्ति कानू पूर्ति मकड़ी मुंडा सानिका मुंडा पतरस सोरों आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran