जासं, चाईबासा : जेवियर स्कूल मैदान में पाताहातु, बड़बिल, कमारहातु और गुटूसाई के महिला मंडल महिलाओं के बीच माघ महोत्सव नृत्य व साज श्रृंगार प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें महिलाओं के नृत्य और श्रृंगार के अनुसार पुरस्कृत किया गया। काथलिक सभा द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता में पाताहातु के ज्योति पुरती कांडेयांग और जीवनलता पुरती देवगम ने बेहतर साज श्रृंगार के लिए और बहालेन सुंडी तामसोय को श्रेष्ठ नृत्य के लिए पुरस्कृत किया गया। पाताहातु की महिला मंडल को श्रेष्ठ नृत्य मंडली के रुपर में चयन कर पुरस्कृत किया गया। विजेता प्रतिभागियों को सिस्टर अनिता और शिक्षक भगवान टोपनो के हाथों पुरस्कृत किया गया। इस मौके सिस्टर अनिता ने कहा कि हमें अपनी परंपरा को कभी नहीं भूलना चाहिए। परंपरा से जुड़े रहने के लिए ही ऐसा महोत्सव का आयोजन किया जाता है। जिससे हमारे आने वाले पीढ़ी के बच्चों को अपनी परंपरा के बारे जानकारी मिले। इसका दूसरा पहलू यह है कि हम इस भाग दौड़ भरा जीवन में एक दूसरे को समय नहीं दे पाते हैं। इस प्रकार के प्रतियोगिता के जरीये मुलाकात का समय भी मिलता है। जिससे हम एक दूसरे के बारे जानकारी हासिल करते हैं। यह परंपरा भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है। इसमें हम सभी को संभाल कर रखने की आवश्यकता है। इस मौके पर प्रफुल्लित होरो गागराई, ब्रजमोहन तामसोय, जुलियाना पुरती, सामु देवगम, सावूदेव तियू, पासिग सवैंया समेत अन्य मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस