जासं, सिमडेगा : उपायुक्त सुशांत गौरव ने समाहरणालय स्थित कार्यालय कक्ष में आयोजित दरबार में आमजन की समस्याओं से रूबरू हुए। कई मामले जमीन से जुड़े थे। उन्होंने प्राप्त आवेदनों पर त्वरित कार्रवाई करते हुए विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने समस्याओं के निराकरण की दिशा में मामले पर समयबद्ध कार्रवाई कर अनुपालन प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया है। जमीन विवाद को सुलझाने को लेकर लबडेगा की सावित्री देवी ने उपायुक्त से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि उनके पति स्व.लक्ष्मी नारायण साव के हिस्से के जमीन को अजय जयसवाल व जानकी जायसवाल द्वारा जबरन कब्जा किया गया है। उन्होंने प्रशासन की मदद से पति के हिस्से की जमीन दिलाने की गुहार लगाई। उपायुक्त ने अंचलाधिकारी कुरडेग को कारणपृच्छा की। इस मामले को लेकर पूर्व में भी मामले के निष्पादन की दिशा में निर्देश दिए गए थे। वहीं उन्होंने जमीनी कागजातों की मिलान कर स्पष्ट प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया। पारसनाथ मेहर ने कृषि कार्य हेतु डीप बोरिग एवं सोलर पंप की सुविधा बहाल कराने की बात कही। भूमि संरक्षण पदाधिकारी को कृषि योग्य भूमि की जांच करते हुए सिचाई सुविधा बहाल से संबंधित आवश्यक कार्रवाई प्रतिवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया गया। एक कंपनी द्वारा गोल्डन-24 प्लान का परिपक्वता राशि नहीं देने से संबंधित रेशमा बड़ाईक ने उपायुक्त को आवेदन दिया। साथ हीं फिक्स डिपोजिट जमा राशि को नहीं देने की शिकायत की। उपायुक्त ने अनुमंडल पदाधिकारी एवं एलडीएम को मामले पर त्वरित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। जमीन विवाद से संबंधित अवैध निर्माण पर रोक लगाने को लेकर बंगरू के प्रबल मिज ने आवेदन दिया। उन्होंने बताया कि 70 डिसमिल जमीन में अवैध तरीके से निर्माण किया जा रहा है। मेरे परिवार के किसी भी व्यक्ति के द्वारा जमीन नहीं बेचा गया है। फर्जी तरीके से अवैध दस्तावेजों के आधार पर जमीन पर कब्जा किया गया है, तथा अवैध निर्माण किया जा रहा है।उपायुक्त ने सदर अंचलाधिकारी को जमीन के कागजातों की मिलान कर 21 अक्टूबर तक स्वच्छ मंतव्य समर्पित करने का निर्देश दिया।जनता दरबार में कुल 17 आवेदन प्राप्त हुए।

Edited By: Jagran