जागरण संवाददाता, सरायकेला : खरसावां प्रखंड के खमारडीह गांव में मंगलवार रात एक हाथी ने एक घर में घुसकर पति, पत्नी व बच्चे को घायल कर दिया। तीनों अपने घर में सो रहे थे। सभी घायलों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसमें पति की हालत ज्यादा खराब होने पर जमशेदपुर रेफर कर दिया गया। पति का भागने के क्रम में पैर टूट गया है। पत्नी व बेटे का सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है।

वन प्रमंडल पदाधिकारी ए एक्का ने अस्पताल पहुंचकर उपचार के लिए तत्काल दस हजार रुपये सहयोग राशि दी। खमारडीह के राजेश सामंत ने बताया कि मंगलवार रात वह अपनी पत्नी ¨रकी सामंत एवं दो वर्षीय बेटा मनोज के साथ घर में सोए थे। इस बीच रात दो बजे के लगभग एक हाथी आकर घर तोड़ने लगा। हाथी के आने पर वे पत्नी व बेटे को लेकर घर से भागने लगे। इसी बीच हाथी ने राजेश को सूंढ़ से पकड़कर जमीन पर पटक दिया। किसी तरह मैं अपने आप को हाथी से बचाकर भाग निकला। भागने के क्रम में पत्नी एवं बेटे को भी चोटें लगी है। भागते हुए राजेश कुछ दूरी पर जाकर बेहोश हो गए। इस बीच गांव के लोग जाग गए।

वन प्रक्षेत्र पदाधिकारी केके सहाय एवं वन विभाग की टीम के साथ ग्रामीणों ने आग जलाकर पटाखा फोड़ते हुए काफी मशक्कत के बाद गांव से हाथी को भगाया। ग्रामीणों ने एंबुलेंस को बुलाया और उपचार के लिए तीनों को सदर अस्पताल पहुंचाया। सूचना पाकर विधायक प्रतिनिधि मांगीलाल महतो अस्पताल पहुंचे और वन प्रमंडल पदाधिकारी ए एक्का को सदर अस्पताल बुलाया। वन प्रमंडल पदाधिकारी एक्का ने राजेश को तत्काल दस हजार रुपये सहायता राशि दी। उन्होंने कहा कि उपचार के लिए विभाग द्वारा पचास हजार रुपये देने का प्रावधान है। अभी दस हजार रुपये दिए गए हैं और चालीस हजार रुपये दिए जाएंगे।

वन अधिकारी ए. एक्का ने बताया कि हाथी अपने झुंड से बिछड़ गया है। भटकने के कारण वह उपद्रव कर रहा है। इसे जंगल की ओर भेजने का प्रयास किया जा रहा है। डीएफओ ने बताया कि हाथी द्वारा क्षति के एवज में प्रभावितों को मुआवजा के लिए विभाग से बीस लाख रुपये की मांग की गई है। राशि उपलब्ध होते ही प्रभावित लोगों को मुआवजा का भुगतान किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस