जागरण संवाददाता, सरायकेला : सरायकेला में जंगली हाथियों का तांडव जारी है। जंगली हाथियों ने बगल की पहाड़ी में डेरा डाल दिया है। रोज सुबह विभिन्न गांवों का विचरण कर उत्पात मचा रहा है। चार दिनों से सरायकेला के ईंटाकुदर एवं साहेबगंज पंचायत में हाथियों का झुंड डटा है। हाथियों के आतंक से पूरे क्षेत्र में दहशत का माहौल है।

रविवार रात को भी हाथियों ने कई मकान तोड़ दिए। सुबह में संजय पहाड़ी के नीचे जाकर आश्रय लिया। रविवार रात हाथियों के झुंड ने ईंटाकुदर पंचायत के संजय ग्राम में जाकर सविता कुमारी के घर को तोड़ दिया और घर में रखे चार बोरा चावल खा गए। इसके अलावे बेलमती सुरेन के घर तोड़कर हाथियों ने पांच क्विंटल धान खा गए। ग्रामीणों ने पटाखे एवं मशाल जलाकर किसी तरह हाथियों को गांव से खदेड़ा। संजय ग्राम में उत्पात मचाने के बाद हाथियों ने ईंटाकुदर पंचायत के रुटकाटांड़ में जाकर उत्पात मचाते हुए रासबिहारी नायक के मकान तोड़कर घर में रखे दस मन धान खा गए। इसके बाद जगन्नाथ नायक के खेत में बैगन व टमाटर की फसल नष्ट कर दिया। गांव में हाथी पहुंचते ही ग्रामीणों ने संगठित होकर जगह-जगह पुआल जलाकर आग लगाई। आग को देख हाथियों का झुंड पहाड़ी के नीचे जोजो नाला व साोना नदी के संगम पर स्थित जंगल में चला गया। हाथियों के ठहरने की खबर चारों ओर फैल गई और हाथियों को देखने लोग संजय पहाड़ पर लोग पहुंचने लगे। लोग पहाड़ी पर चढ़कर नीचे ठहरे हाथियों का दर्शन करने लगे। इससे पहले शनिवार रात को हाथियों ने साहेबगंज पंचायत के संजय ग्राम स्थित आवासीय विद्यालय एवं पुलिस लाइन में आतंक मचाया। नीलमोहन में कई मकान तोड़कर घर में रखे अनाज खा गए।

इधर हाथियों के आतंक पर उपायुक्त छवि रंजन ने गंभीरता से लेते हुए वन प्रमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पदाधिकारी को घटनास्थल में जाकर नुकसान का जायजा लेने का निर्देश दिया। वन प्रमंडल पदाधिकारी ए एक्का, वन प्रक्षेत्र पदाधिकारी सुरेश प्रसाद दल-बल के साथ संजय ग्राम पहुंचे। उपायुक्त के निर्देशानुसार अनुमंडल पदाधिकारी संदीप दुबे भी संजय ग्राम पहुंचे। डीएफओ व एसडीओ ने संयुक्त रूप से एसटीआर विद्यालय में हाथियों द्वारा किए गए नुकसान का जायजा लिया। एसटीआर विद्यालय का निरीक्षण के क्रम में डीएफओ एक्का ने बताया यह हाथी ओडिशा से आए हैं। इन्हें वापस जाने के लिए रास्ता नहीं मिल रहा है।

उन्होंने बताया कि इन हाथियों को यहां से भगाने के लिए चांडिल से एलीफैंट फ्लाईंग स्कॉर्ट को लगाया जा रहा है। हाथियों को यहां से भगाते हुए तमाड़ जंगल पहुंचाया जाएगा। डीएफओ ने कहा कि वन अधिकारी एवं वन सुरक्षा गार्ड को हाथियों पर निगरानी रखने का निर्देश दिया गया है। ग्रामीणों के बीच टॉर्च एवं मशाल जलाने के लिए सामग्री दी गई है। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की है कि हाथियों के साथ छेड़छाड़ न करें। फोटो लेने के लिए हाथी के सामने नहीं जाएं। अनुमंडल पदाधिकारी संदीप दुबे ने कहा कि रात को विद्यालय के चारों ओर आग जलाने की व्यवस्था कर दी गई है। पुलिस लाइन के सार्जेट मेजर को अलर्ट कर दिया गया है। हाथी भगाने के लिए पुलिस जवान को भी तैयार रखें।

----------------------------------------------------------------------

कोट:-

वन प्रमंडल पदाधिकारी को एलीफैंट फ्लाइंग स्कोर्ट के सहयोग से हाथियों को भगाने का निर्देश दिया गया है। हाथी समस्या को लेकर शनिवार को जिला समाहरणालय में बैठक होगी। इसमें जिले के सांसद व विधायक भाग लेंगे। बैठक में हाथी समस्या से निदान पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

छवि रंजन, उपायुक्त, सरायकेला-खरसावां

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस