जागरण संवाददाता, सरायकेला : चैंबर ऑफ कॉमर्स सरायकेला-खरसावां के जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी के नेतृत्व में गुरुवार को एक प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त ए.दोड्डे से भेंटकर बढ़ी बिजली दर वापस लेने की मांग की। ज्ञापन सौंपते हुए झारखंड राज्य विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) को बिजली दर में की गई अप्रत्याशित वृद्धि को अविलंब वापस लेने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि जेबीवीएनएल द्वारा बिजली दर में अप्रत्याशित वृद्धि कर दिए जाने से जिले के कई उद्योग बंद हो गए हैं। कई बंदी के कगार पर हैं। इससे हजारों श्रमिक बेरोजगार हो जाएंगे। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि यह न्याय संगत नहीं है। जब जेबीवीएनएल निर्बाध एवं गुणवत्ता युक्त बिजली आपूíत कर ही नहीं पा रही है तो बिजली दर बढ़ाना कहीं से औचित्य नहीं है। आज इसके दुष्परिणाम सामने आने लगे हैं। जिले में कई उद्योग बंद हो चुके हैं।

प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि पांच सौ छोटे उद्योग खबर में ही नहीं है जो बंद हो चुके हैं। हजारों परिवार भूखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। यह गंभीर बात है जो सरकार के संज्ञान में नहीं जा रही है। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि कहीं झारखंड मोमेंटम का हाथी उद्योग एवं व्यापार को ही न कुचल दे। उन्होंने कहा कि अभी भी सरकार को चेतने एवं अपने गलत फैसलों पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि मुख्यमंत्री सह उद्योग व विद्युत मंत्री रघुवर दास से चैंबर ऑफ कॉमर्स आग्रह करती है कि मृगतृष्णा से बाहर आकर वस्तुस्थिति को पहचानें। व्यवहारिक निर्णय लेते हुए बढ़ी हुई बिजली दर को वापस लेने की पहल करें। अगर उद्योग व्यवसाय जीवित रहेंगे तो सरकार को राजस्व प्राप्त होगा। इससे सरकार की कल्याणकारी योजनाएं पूरी होगी। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि रामगढ़ एवं देवघर में डीवीसी जहां काफी कम दर में बिजली आपूíत करती है और वहीं इसके विपरित कोल्हान में जेबीवीएनएल द्वारा भारी भरकम दर तय किया गया। उन्होंने जेबीवीएनएल से निवेदन करते हुए कहा कि सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए अप्रत्याशित बिजली दर को अविलंब वापस ले ताकि उद्योग जगत को राहत मिले। प्रतिनिधिमंडल में एफजेसीसीआइ के कोल्हान उपाध्यक्ष विकास चंद्र मिश्रा, सरायकेला खरसावां जिला चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के महासचिव मनोज चौधरी, उपाध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल, सदस्य उदित चौधरी व विकास चौधरी एवं जमशेदपुर चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष आलोक चौधरी, पूर्व अध्यक्ष मोहनलाल अग्रवाल, आकाश शाह एवं अजय गुप्ता शामिल थे। ज्ञापन की प्रतिलिपि प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्य सचिव, झारखंड सरकार के आयुक्त, कोल्हान एवं एफजेसीसीआई अध्यक्ष को भी भेजी गई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप