जागरण संवाददाता, सरायकेला : झारखंड ट्राइबल भूमिज समाज काउंसिल, सरायकेला इकाई की ओर से शहीद वीर गंगा नारायण सिंह की 224 वीं जयंती रविवार को मनायी गयी। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में हरीश सिंह भूमिज भी शामिल हुए। समाज के लोगों द्वारा शहीद गंगा नारायण सिंह के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई। इस मौके पर प्रो. अतुल सरदार ने कहा कि गंगा नारायण सिंह का जन्म 25 अप्रैल 1790 में नीमडीह प्रखंड के बांधडीह में हुआ था। वे 1833 में हुए चुहाड़ विद्रोह के महानायक थे, जो कि अंग्रेजों, दमनकारियों व साहूकारों के खिलाफ लड़ते हुए 7 फरवरी 1833 को खरसावां के हीनू में शहीद हुए। उन्होंने कहा कि उनकी यह जयंती पखवाड़ा जयंती के रूप में मनायी जा रही है। सरदार ने कहा कि गंगा नारायण सिंह ने सरदार सेना का गठन किया था उसके बाद से ही भूमिज लोग सरदार लिखने लगे। उन्होंने कहा कि हमें अपने पूर्वजों से प्रेरणा लेनी चाहिए क्योंकि उनके विचार आज भी प्रासंगिक हैं तथा उन लोगों ने हमेशा शोषण के खिलाफ व समाज के हित के लिए संघर्ष किया। इस अवसर पर सुदर्शन सरदार, बोया सिंह सरदार, सिद्धेश्वर सरदार आदि उपस्थित थे।