पाकुड़ : स्थानीय परिसदन में गुरुवार को सूबे के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने आमजनों की समस्याओं को सुना और समाधान का आश्वासन दिया। मुखिया संघ के शिष्टमंडल ने भी मंत्री को मांग पत्र सौंपा। मदरसा कर्मियों ने भी अपनी मांगें रखी।

मुखिया संघ की जिलाध्यक्ष चित्रलेखा गोड़ ने कहा कि मुखियों को अन्य जनप्रतिनिधियों की तरह सम्मानजनक मानदेय दिया जाए। पूर्व की सरकार मुखियों के वित्तीय शक्ति को समाप्त कर दिया था। यह शक्ति पुन: दी जाए। 14वीं वित्त आयोग की राशि से संचालित योजनाओं की मापी पुस्तिका प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा निर्गत नहीं किया जाए।

उन्होंने कहा कि पंचायत भवन के प्रज्ञा केंद्र में आधार कार्ड, निवास, आय व जाति प्रमाण पत्र सहित मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने का आदेश जारी किया जाए। अंचलकर्मी को पंचायत भवन में सप्ताह के एक दिन गुरुवार को बैठने का आदेश जारी किया जाए। ताकि पेंशन से संबंधित समस्याओं का निदान किया जा सके।

जिलाध्यक्ष ने बताया कि मंत्री को तमाम समस्याओं से अवगत करा दिया गया है। मंत्री ने आश्वासन दिया है कि सभी मांगों को सरकार के समक्ष रखा जाएगा ताकि शीघ्र ही समस्याओं का समाधान हो सके।

वहीं मंत्री आलमगीर आलम ने मुखियों को आश्वासन दिया कि पांच सूत्री मांगों पर शीघ्र विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री व संबंधित विभाग के मंत्री से वार्ता की जाएगी।

दूसरी ओर मदरसा के शिक्षकों ने भी मंत्री को मांगपत्र सौंपा है। मंत्री ने मदरसा के शिक्षकों को आश्वासन दिया है कि उनकी मांगों पर भी विचार किया जाएगा।

इस मौके पर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष उदय लखवानी, सोनाजोड़ी पंचायत की मुखिया सुनन्ना मरांडी, हीरानंदनपुर की मुखिया सुमी सोरेन, अफजल हुसैन, अली अकबर सहित अन्य उपस्थित थे।

मंत्री ने किया ग्रामीण इलाके का दौरा

ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने गुरुवार को सदर प्रखंड क्षेत्र के कई गांवों का दौरा किया। कड़ी सुरक्षा के बीच मंत्री ने नारायणखोर, नया अंजना, शीश पोखर, नवादा, ईलामी, तारा नगर, कुसमा नगर गांव पहुंचे। मंत्री ने कहा कि सरकार स्वास्थ्य, शिक्षा, बिजली पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की हर समस्याओं का समाधान किया जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस