साहिबगंज : साहिबगंज कॉलेज में पिछले कई दिनों से चला आ रहा शिक्षक-छात्र विवाद सोमवार को सिदो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय दुमका के कुलपति डॉ. मनोरंजन प्रसाद सिन्हा के हस्तक्षेप के बाद समाप्त हो गया। मामले को लेकर सोमवार की देर शाम कुलपति पहले शिक्षकों से वार्ता की उनकी पीड़ा को सुना व आश्वासन दिया है कि जबतक वे हैं शिक्षक के सम्मान, सुरक्षा व कल्याण के लिए हम कटिबद्ध हैं। शिक्षकों के साथ हुए बैठक के क्रम में ¨सडिकेट सदस्य डॉ. रणजीत कुमार ¨सह ने साहिबगंज महाविद्यालय के 1951 से परीक्षा के बारे में बताया कि यहां अविभाजित बिहार में जब यह महाविद्यालय का पठन-पाठन व परीक्षा का गौरवशाली इतिहास था तब से लेकर आज तक परीक्षा कदाचार मुक्त संचालन के लिए विख्यात है। कुलपति ने प्राचार्य को निर्देश दिया कि पांच उपद्रवी छात्रों को चिह्नित कर उसका नाम उन्हें भेज दें फिर मैं समझ लूंगा। वहीं छात्रों को हिदायत देते हुए कुलपति ने कहा कि शैक्षणिक माहौल व परीक्षा में कदाचार बेवजह दबाब को शक्ति से निपटा जाएगा। मामले में आरोपित सभी छात्रों ने सभी शिक्षकों से माफी मांगी और पुन: ऐसी गलती नहीं करने का आश्वासन दिया।

बता दें कि बीते 16 जुलाई को बीएड परीक्षा में कदाचार के आरोप में एक छात्रा को निष्काषित किया गया था। जिसपर विरोध जताते हुए कुछ छात्रों ने शिक्षकों से धक्कामुक्क ी करते हुए कॉलेज में बवाल काटा था। इसके विरोध में शिक्षकों ने कॉलेज में पठन-पाठन कार्य को ठप कर दिया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस