-राधानगर थाना के गोही विश्वास टोला का मामला संवाद सहयोगी, राजमहल (साहिबगंज) : पत्नी की हत्या कर साक्ष्य छुपाने के मामले में राधानगर पुलिस ने मृतका आमेना बीबी की दस वर्षीया पुत्री फरीदा खातून का बयान न्यायालय में दर्ज कराया। प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी राजकुमार पांडे की अदालत में दर्ज बयान में मृतका की पुत्री फरीदा खातून ने बताया कि उसके पिता सरजहान शेख ने फोन करके उसकी मां एवं नानी को बुलाया। वह भी अपनी मां और नानी के संग पिता के साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर जा रही थी। रास्ते में उसे और नानी को गाड़ी से धकेल दिया और मां को लेकर चले गए। दूसरे दिन उसकी मां की लाश घर के सामने नदी से बरामद की गई। विदित हो कि इस मामले में मृतका की मां राधानगर थाना क्षेत्र के गोही विश्वास टोला निवासी फुदन बीबी ने पुलिस को लिखित आवेदन देकर यह आरोप लगाया था कि उसकी पुत्री आमेना बीबी का निकाह लगभग 15 वर्ष पूर्व गांव के ही सरजहान शेख के साथ हुआ था। निकाह के बाद से ही उसके ससुराल वाले उसे मानसिक एवं शारीरिक रूप से प्रताड़ित करते थे। आमेना बीबी ने पति सरजहान शेख एवं ससुराल वालों के विरूद्ध दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया था जो थाना में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पड़ा हुआ है। इसी बीच बीते 10 नवंबर की रात्रि लगभग साढ़े 7-8 बजे सरजहान शेख ने उसकी पुत्री अर्थात मृतका को फोन करके बुलाया। दूसरे दिन पुत्री का पता लगाने के क्रम में सरजहान शेख की दूसरी बीबी सैफुल बीबी ने मृतका के आने की बात स्वीकार की थी। 13 नवम्बर की सुबह घर के सामने नदी में मछुआरों द्वारा मछली मारने के क्रम में जाल में फंसकर मृतका का शव उपर आ गया। लाश मिलने का हल्ला होने पर मृतका की मां ने अपनी पुत्री आमेना बीबी के रूप में उसकी पहचान की। घटना के बाद से ही सरजहान शेख घर से फरार है। इस मामले में राधानगर पुलिस ने सरजहान शेख, जमीरूल शेख, बरजहान शेख, सैफुल बीबी, सौदुल शेख, रब्बुल शेख, मोफिजुद्दीन शेख, मनिरूल शेख एवं इकरामुल शेख के विरुद्ध राधानगर थाने में मामला दर्ज कराया है। मृतका की सौतन सैफुल बीबी एवं मनारूल शेख को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस