रांची : अगस्त का पहला रविवार दोस्तों के नाम रहा। अपने-अपने काम व पढ़ाई से समय निकाल कर लोग एक दूसरे से मिलने आए और वर्षो से अनकही बातें एक-दूजे से साझा की। लोगों के जश्न के बीच शहर के कारोबार में चार चांद लग गए। रेस्त्रां से ले कर उपहारों का बाजार गुलजार रहा। फ्रेंडशिप बैंड से ले कर पीले फूल की भी बिक्री खूब हुई। कहीं युवाओं की टोली का जश्न दिखा तो कहीं बुजुर्गो ने भी पुरानी दोस्ती की मिशाल कायम की। सभी कॉलेजों में अभी नए छात्र आए हैं। सबकी दोस्ती हुई है और रविवार को सब अपने नए दोस्तों के साथ वक्त बिताने से नहीं चूके।

वहीं दूसरी ओर जो छात्र कॉलेज छोड़ रहे हैं उनके लिए भी यह दिन बेहद खास था। दोस्ती के पलों को समेटने के लिए लोग एक-दूसरे से मिले और साथ रहने का वादा किया। इसी माहौल में शहर के मॉल और शॉप तैयार की गई जहां दोस्तों के लिए जमकर खरीदारी हुई। फ्रेंडशिप डे पार्टी के लिए शहर रेस्टोरेंट थे तैयार एक दिन पूर्व ही राजधानी के सभी रेस्टोरेंट की थीम में परिवर्तन हो चुका था। प्रवेश द्वार पर दोस्तों से जुड़े कोट्स थे और अंदर फ्रेंडशिप के नाम के बलून। यहां तक कि गाने भी दोस्ती के ही बजे। इस माहौल में लोगों ने जम कर पार्टी की। रेस्त्रां के मालिकों ने बताया कि आम दिनों की अपेक्षा रविवार को बेहतर कारोबार रहा। युवाओं की हर टोली का बिल तीन से चार हजार के पार ही रहा। ऐसे दर्जनों टोली रेस्त्रां में दोस्ती का जश्न मनाती दिखीं। इस हिसाब से एक रेस्त्रां के दिन भर का कारोबार कम से कम 50 हजार रहा। बड़े रेस्टोरेंट का औसतन कारोबार तीन लाख रुपये रहा। शहर में ऐसे दर्जनों रेस्त्रां हैं। फूल, केक और फ्रेंडशिप बैंड की भी हुई खूब बिक्री - दोस्तों के लिए खास पीले रंग के फूल खूब बिके। एक फूल 30 से 60 रुपये तक की कीमतों में बेचे गए। वहीं फ्रेंडशिप डे केक का भी क्रेज काफी ज्यादा देखने को मिला। दोस्ती जिंदगी भर की जैसे कोट के साथ केक बिके। इनकी कीमत 300 से 1000 रुपये तक की थी। शहर के लगभग सभी दुकानों ने ऐसे दर्जनों केक बेचे। केक दुकान के मालिकों ने भी इस बात की पुष्टि की कि एक दिन का कारोबार तीन दिन के बराबर रहा। केक के दुकान, फूलों का कारोबार और उपहारों के बाजार ने मिल कर लाखों को कारोबार किया।

करोड़ों के पार रहा एक दिन का कारोबार - राजधानी में फ्रेंडशिप डे के कई पहलु सामने आए। विभिन्न बाजारों पर इसका सकारात्मक प्रभाव दिखा। सभी रेस्त्रां, दुकानों के मालिक और कारोबारियों से बात चीत के आधार पर स्पष्ट हुआ कि पूरे दिन का कारोबार करोड़ों रुपये के पार रहा। इसमें अन्य छोटे उपहार जैसे फोटो फ्रेम, टी-शर्ट, घड़ी, और अन्य उपहार भी शामिल हैं। रविवार को बिजनेस अन्य दिनों से बेहतर रहा। दोस्ती के नाम पर दस-दस लोगों की दर्जनों टोलियां आई। सबकी मस्ती के बीच बिजनेस को फायदा हुआ। ग्राहकों की सुविधा का बेहतर खयाल रखा गया। विनोद गुप्ता, रेस्त्रां मालिक।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस