रांची, जासं। रांची से सांकी और टाटा के लिए गुरुवार से दो अलग-अलग पैसेंजर ट्रेनों की शुरुआत हुई। गुरुवार को रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी और मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसी के साथ ही रांची से बीआइटी होते हुए सांकी तक बने नए रेल रूट पर ट्रेन परिचालन भी शुरू हो गया। यह रेल लाइन बरकाकाना तक जाएगी और भविष्य मेंं इस पर एक्सप्रेस ट्रेनों का भी संचालन होगा।
इस मौके पर रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने कहा कि रेल सुविधाएं बढऩे से राज्य के 3.25 करोड़ जनता का सपने साकार होंगे। इस दौरान उन्होंने रांची में रेलवे जोन का कार्यालय भी शीघ्र खोले जाने का आश्वासन दिया। साथ ही रांची से नई दिल्ली के बीच राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन सप्ताह में सातो दिन शुरू करने के लिए भी प्रयास करने के प्रति आश्वस्त किया।

रिमोट से किया उद्घाटन
रेल राज्य मंत्री व मुख्यमंत्री ने रिमोट से दोनों ट्रेनों का उद्घाटन किया। हटिया-सांकी पैसेंजर ट्रेन हटिया से खुली, जबकि रांची-टाटा एक्सप्रेस ट्रेन रांची से। इस अवसर पर रांची के सांसद संजय सेठ, पुरुलिया के सांसद ज्योतिर्मय सिंह महतो, हटिया विधायक नवीन जायसवाल, कांके विधायक डॉ. जीतू चरण राम, मेयर आशा लकड़ा, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय, दक्षिण पूर्व रेलवे के अपर महाप्रबंधक अनुपम शर्मा व डीआरएम नीरज अंबष्ठ आदि उपस्थित थे।


आगामी 10 वर्षों में रेलवे में 50 लाख करोड़ रुपये का होगा निवेश
रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने कहा कि आने वाले 10 वर्षों में रेलवे में 50 लाख करोड़ का निवेश होगा। उन्होंने कहा कि रेलवे का काम देश को जोडऩा है। प्रधानमंत्री ने पूरे विश्व को योग से जोड़ दिया है। उन्हीं की प्रेरणा से हम रेलवे के माध्यम से प्रदेशों को जोड़ रहे हैं।

आरक्षित सीटों पर कब्जा करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करें
रेल राज्यमंत्री ने कहा, कुछ लोग गुंडागर्दी कर आरक्षित सीटों पर कब्जा कर लेते हैं। आरपीएफ ऐसे मामलों में कड़ी कार्रवाई करे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि ट्रेनों का समय पर चलना और ट्रेनों के भीतर तथा प्लेटफार्म पर सफाई सुनिश्चित करने में अधिकारी पूरा जोर लगा दें। 15 अगस्त को प्रधानमंत्री ने खुद यह घोषणा की है कि रेलवे प्लेटफॉर्म पर प्लास्टिक का उपयोग नहीं किया जाएगा। प्लास्टिक पर पाबंदी लगने से किसान व टेक्सटाइल उद्योगों को फायदा होगा।

पांच वर्षों में कई मांगें हुई पूरी : रघुवर दास
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि पांच वर्षों में रेलवे से संबंधित कई लंबित मांगे पूरी हुई हैं। कई नई ट्रेनों का परिचालन शुरू हुआ और कई रेलवे ओवरब्रिज (आरओबी) बने। हालांकि कुछ नए आरओबी की अभी भी जरूरत है। इस कार्य में जमीन अधिग्रहण या वन भूमि के अधिग्रहण में समय लगता है। झारखंड जंगलों से भरा प्रदेश है। जंगल में आरओबी बनाने के लिए फॉरेस्ट क्लीयरेंस की जरूरत पड़ती है।
रेल परियोजनाओं को जल्द पूरा कराने के लिए राज्य सरकार भी प्रतिबद्ध है और सामने आने वाली समस्याओं का समाधान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यातायात को सुगम बनाने के लिए हर साधन को जोडऩे की क्रांति चल रही है। सभा को रांची के सांसद संजय सेठ और नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने भी संबोधित किया। इन नेताओं ने क्षेत्र की जरूरतों और रेलवे से जनता की उम्मीदों की चर्चा करते हुए कई सुविधाएं बढ़ाने की मांग रेल राज्यमंत्री के सामने रखी।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस