Move to Jagran APP

Triple Murder in Jharkhand: नक्सली ने ग्रामीण की हत्या की, लोगों ने उसे भी पत्नी समेत मार डाला

Jharkhand Naxal News मनातू थाना क्षेत्र के नक्सल प्रभावित कुंडीलपुर गांव में शुक्रवार रात एक नक्सली ने आपसी कहासुनी में एक ग्रामीण की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने एकजुट होकर मौके पर ही नक्सली और उसकी पत्नी को पीट-पीटकर मार डाला।

By Sujeet Kumar SumanEdited By: Sun, 03 Jan 2021 08:53 AM (IST)
Triple Murder in Jharkhand: घटनास्‍थल बिहार सीमा से जुड़ा हुआ है।

पलामू, जासं। Triple Murder in Jharkhand झारखंड के पलामू जिला के मनातू थाना क्षेत्र के नक्सल प्रभावित कुंडीलपुर गांव में शुक्रवार रात एक नक्सली ने आपसी कहासुनी में एक ग्रामीण की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने एकजुट होकर मौके पर ही नक्सली और उसकी पत्नी को पीट-पीटकर मार डाला। ग्रामीणों ने नक्सली का घर भी फूंक डाला। घटना के बाद इलाके में दहशत है। घटना का कारण भूमि विवाद बताया जा रहा है। मामले में पांच लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। पलामू पुलिस ने इनमें चार को गिरफ्तार कर लिया है।

पलामू के पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने बताया कि मारे गए व्यक्ति प्रगास सिंह उर्फ प्रकाश सिंह को गांव वाले नक्सली बता रहे हैैं। पुलिस इसकी छानबीन कर रही है। वह नए साल का जश्न मनाने दो-तीन दिन पहले ही गांव आया था। उसने गांव के विनोद ङ्क्षसह के साथ  शराब का सेवन किया था। इसी बीच सरपंची के पुराने विवाद को लेकर दोनों में कहासुनी हो गई। विवाद बढऩे पर प्रगास अपने घर से भरठुआ बंदूक ले आया और विनोद को गोली मार दी।

उधर, गोली की आवाज सुनकर विनोद के स्वजन और आसपास के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और प्रगास की बंदूक छीनकर उसके बट से मार-मार कर उसकी हत्या कर दी। इस क्रम में बीच बचाव करने आई प्रगास की पत्नी प्रेमनी देवी को भी ग्रामीणों ने पीट-पीट कर मार डाला। एसपी ने कहा कि पुलिस मामले की तह तक पहुंचकर उचित कार्रवाई करेगी।

उधर गांव वालों का कहना है कि प्रगास सिंह का नक्सली संगठन भाकपा माओवादी से संबंध था। उसका अपने पड़ोसी विनोद ङ्क्षसह से 10 वर्षों से जमीन विवाद चल रहा था। इस विवाद को निपटाने के लिए गांव में तीन-चार बार पंचायत भी हुई थी। प्रकाश से जमीन के दस्तावेज दिखाने को कहा गया था, लेकिन दस्तावेज प्रकाश नहीं दिखा पाया। छह माह पहले वह नक्सलियों के साथ गांव आया था। ये नक्सली गांव के विनोद ङ्क्षसह, कईलू ङ्क्षसह व राजेंद्र ङ्क्षसह को मारने के लिए खोज रहे थे।