जागरण संवाददाता, राची : कोरोना से बचना है तो दूरी बनाकर रखना जरूरी है। खान-पान पर विशेष ध्यान रखें ताकि शरीर की इम्युनिटी अच्छी रहे। हर घटे दो बार 20 सेकेंड तक ठीक से हाथ के साथ केहुनी तक घोएं। हैंड सैनिटाइजर जरूरी नहीं है। किसी भी साबुन से धो सकते हैं। ये बातें जागरण प्रश्न पहर में रविवार को रिम्स के जेडीए अध्यक्ष डॉ. अजीत कुमार ने कही।

डॉ. अजीत ने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है। रिम्स में जरूरत के हिसाब से पीपीई किट है। मंगलवार से रिम्स सहित तीन अन्य जगहों पर टेस्ट की संख्या बढ़ेगी। कहा कि जिन पारा मेडिकल कर्मियों को नियुक्ति पत्र दिया गया है उसे कार्य में जल्द लगाया जाए ताकि समस्या नहीं हो। सवाल-जवाब

एक माह से गले में खरास है। बाहर से नहीं आया हूं और न ही ऐसे लोगों से मिला हूं जो हजारीबाग से बाहर से आया हो।

मनोज सोनी- हजारीबाग यह सीजनल है। आप इथ्रोमाइसिन-750एमजी और लिवोसेट्रीजीन-10 एमजी पाच दिनों तक एक समय लें। बाहर बिल्कुल नहीं निकलें। कोरोना से बचाव के लिए क्या-क्या कर सकता हूं।

बपाई चक्रवर्ती, संतोषी दास- जमशेदपुर घर में ही रहें। खान-पान में इम्युनिटी बढ़ाने वालीं चीजें लें। यदि किसी काम के लिए घर से बाहर निकलते हैं तो मास्क जरूर लगाएं। कमरा हवादार रहे। तुलसी के पत्ते उबाल कर और गिलोई ले सकते हैं। खट्टे फल व सब्जी लें। -हैंडवाश ठीक है या सैनिटाइजर?

दीपक विशाल-नामकुम हैंडवाश या कोई भी साबुन से हाथ धोएं। यह बेहतर है। जरूरी नहीं है कि सैनिटाइजर ही हो। हल्का बुखार है। मेरी बहन मुंबई से लौटी है। लेकिन उसमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं है। क्या मुझे हो सकता है क्या?

वीरेंद्र सिंह, तुपकाडीह आपने अपने बारे में जितना बताया उसके अनुसार लक्षण नहीं है। जहा तक बहन का सवाल है तो जिसकी इम्युनिटी अच्छी होती है उसमें वायरस होने के बाद भी वे ठीक रहते हैं। लेकिन उससे दूसरे लोग को कोरोना हो सकता है। ऐसे में आप नजदीक के चिकित्सा केंद्र जा कर जाच कराएं। वहा डॉक्टर देखेंगे उसके बाद ही जाच होगी। समस्या बढ़े तो चिकित्सा केंद्र जाने से हिचके नहीं। मुझे खासी हो रही है। क्या कोरोना के लक्षण हैं?

सेनी कुमारी, राची हर खासी कोरोना नहीं होती। जरूरत लगे तो जाच कराएं। यह भी जान लें कि कोरोना के 95 प्रतिशत मरीज ठीक हो जाते हैं। सरकार से लेकर सभी सिस्टम काम कर रहा है। घबराने की नहीं बचने की जरूरत है। क्या शराब पीने वाले पर कोरोना नहीं होगा?

शराब या धूमपान करने वाले को कोरोना होने का खतरा अधिक हो जाता है। कारण ऐसे लोगों की इम्युनिटी कम होती है। इसलिए शराब या धूमपान कर रहे हैं तो छोड़ दें। तापमान बढ़ने से कोरोना का प्रभाव कम हो जाएगा?

नेहा मिंज, राची

तापमान बढ़ने से कोई भी वायरस का खतरा कम हो जाता है। कोरोना के केस में भी देखा गया है कि जहा तापमान कम है वहा अधिक प्रभाव है। लेकिन तापमान को लेकर साइंटिफिक प्रूफ नहीं है। इसलिए हम सावधान रहें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस