जागरण संवाददाता, रांची : बारिश में भीगने से कपड़े तो खराब होते ही हैं साथ में अगर आपने नए जूते या चप्पल पहने हैं, तो वह भी खराब हो जाते हैं। नए-नए जूते अगर बारिश में खराब हो जाएं तो बहुत बुरा लगता है। लेदर शूज से लेकर स्पोर्ट शूज, सभी को पानी से बचा कर रखने की जरूरत होती है। लेदर पानी से तुरंत खराब हो जाते हैं इसलिए उन्हे नमी से भी बचा कर रखने की सलाह दी जाती है। अगर पानी के डायरेक्ट कॉन्टैक्ट में लेदर के जूते आ जाएं तो इन्हे दूसरी बार पहना नहीं जा सकता है।

मॉनसून में जूतों का कैसे करें सही देखभाल :

1. स्पोर्ट शू- जब आप बाहर बारिश से भीगती हुई घर पर आएं तो अपने स्पोर्ट शूज की लेस खोलें, जूते को पलट दें और उसे पूरी तरह से सूखने के लिए रखें। अगर आप इसे तुरंत सूखने के लिए रख देंगी तब वह खराब होने से बच जाएगी।

2. शूज कैबिनेट- जब तक आपके जूते पूरी तरह से सूख ना जाएं तब तक उन्हें बंद अलमारी में ना रखें। नहीं तो वह खराब हो जाएंगे और उस पर फंगस लग जाएगी।

3. सूरज की धूप- जूतो को बचाने वाला जो एक अच्छा काम आप कर सकते हैं, वह यह कि आप उसे सूरज की कड़क धूप में सूखने दें। इससे अंदर पनप रहे बैक्टीरिया भी खत्म हो जाएंगे।

4. लेदर को कहें ना- मॉनसून के समय लेदर के जूते और चप्पल ना पहनें। पर अगर लेदर के जूतों को पहनना बहुत जरुरी है तो उस पर वैक्स पॉलिश लगाएं। वैक्स लगाने से आपके जूतों को एक पतली सुरक्षा परत मिल जाएगी।

5. प्लास्टिक सैंडल पहनें- इस बारिश में अच्छा रहेगा कि आप प्लास्टिक के जूते और सैंडल्स पहनें। इससे आपके पैर बचे रहेगें और चप्पलो में भी पानी नहीं भरेगा। अगर उनमें थोड़ी बहुत मिट्टी लग भी गई है तो उसे ब्रश से बाद में साफ कर लें।

6. रबर फुटवियर- अगर आप बारिश में रबड़ की फुटवियर पहन रही हैं, तो उसे तुरंत ही पंखे के अदंर सूखने के लिये रख दें। अगर आपने ऐसा नहीं किया तो रबड़ से बदबू आनी शुरु हो जाएगी और वह परत दर परत छूटने लगेगी।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट : मॉनसून आते ही रबर व प्लास्टिक के चप्पलों की बिक्त्री बढ़ गई है। गम बूट्स के भी विशेष कलेक्शन बाजार में मौजूद हैं। इस मौसम में जूते-चप्पलों को संभाल कर रखने के लिए भी खास ध्यान दिए जाने की जरूरत है। बिजय शाह, फुटवियर विक्रेता

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस