जागरण संवाददाता, रांची : आठ माह बाद भी स्वामी विवेकानंद अंधेरे में हैं। बड़ा तालाब के बीच स्थित स्वामी विवेकानंद की 33 फीट ऊंची आदमकद मूर्ति दिन के उजाले में प्रतिदिन नजर आती है, लेकिन अंधेरा होते ही गुम हो जाती है। मूर्ति का अनावरण हुए आठ माह बीत चुके हैं। फिर भी मूर्ति के इर्द-गिर्द लाइटिंग की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाई। शहरवासी प्रतिदिन दूर से ही स्वामी विवेकानंद की मूर्ति को निहारते रहते हैं। कार्यस्थल पर उपस्थित कर्मियों ने बताया कि पैडेस्ट्रियन ब्रिज व मूर्ति के आसपास लाइटिंग का काम पूरा हो चुका है। भवन निर्माण विभाग की ओर से लाइटिंग का काम शापूरजी पालनजी एंड कंपनी को दिया गया है। इस मामले में विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता से बात की गई तो उन्होंने बताया कि लाइटिंग को चालू करने के लिए अब तक कनेक्शन के लिए आवेदन नहीं दिया गया है। पर्यटन विभाग के अधिकारी भी लाइटिंग का काम कर रही कंपनी की कार्यशैली पर ही सवाल उठा रहे हैं।

-----

सितंबर माह के अंत तक लाइटिंग का काम पूरा हो जाएगा। भवन निर्माण विभाग की ओर से हैंडओवर करने के बाद यह स्थल आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा।

- अनिल कुमार सिंह, निदेशक, क्रीड़ा।

----------

योजना (एक नजर में)

- आइलैंड नंबर-1 और 2 को जोड़ने के लिए 155 मीटर लंबे स्टील पैडेस्ट्रियन ब्रिज का हुआ है निर्माण।

- विवेकानंद की मूर्ति को तालाब के तीन ओर से देखने की है व्यवस्था।

- ब्रिज के नीचे बोट से जाने की होगी व्यवस्था।

- आइलैंड नंबर-2 से आसपास के नजारा को देखने के लिए बेंच की होगी व्यवस्था।

- आइलैंड के इर्द-गिर्द एलइडी लाइट से सुसज्जित पांच फाउंटेन का होगा निर्माण।

- आइलैंड नंबर-1 से आइलैंड नंबर-2 तक जाने के लिए पैडेस्ट्रियन ब्रिज पर एलईडी लाइट्स भी लगाए जाएंगे।

- पैडेस्ट्रियन ब्रिज पर सोलर लाइट की भी होगी सुविधा।

- स्वामी विवेकानंद के स्टेच्यू के इर्द-गिर्द लगेंगे स्पॉट लाइट्स।

- पैडेस्ट्रियन ब्रिज के नीचे लगाए जाएंगे फ्लड लाइट्स।

- योजना की कुल लागत : 13 करोड़।

- स्वामी विवेकानंद की मूर्ति के निर्माण की लागत : 03 करोड़।

- आइलैंड-1 से आइलैंड-2 तक पैडेस्ट्रियन ब्रिज की लंबाई : 200 मीटर।

आइलैंड-1 में पीलर की संख्या : 44

पैडेस्ट्रियन ब्रिज में पीलर निर्माण की संख्या : 44

आइलैंड-2 में पीलर की संख्या : 52

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप