दारु (हजारीबाग), जासं। हजारीबाग के दारु प्रखंड स्थित दिग्वार जंगल से भटककर एक हाथी मंगलवार की शाम करीब साढ़े सात बजे अचानक दारु चौक स्थित दुर्गा पूजा पंडाल के निकट आ धमका। यहां दुर्गा पूजा का मेला लगा हुआ था। यहां आसपास के गांवों से सैकड़ों लोग पहुंचे थे। इधर, जैसे ही हाथी के आने की सूचना उन तक पहुंची, वहां भगदड़ मच गई। इस घटनाक्रम में दो दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। इससे पूर्व हाथी ने एक व्यक्ति का घर भी ध्वस्त कर डाला।

घायल लोगों को दारु सीएचसी में भर्ती कराया गया है। कुछ लोग निजी डाक्टरों के पास भी इलाज कराने पहुंचे। किन्हीं के सिर तो किसी के पैर-हाथ में चोट लगी है। इधर, हाथी के पहुंचने पर पूजा समिति के लोगों ने जोर आवाज में डीजे बजाकर तथा पटाखे फोड़कर हाथी को खदेड़ा। इसके बाद रात लगभग साढ़े नौ बजे तक हाथी दारु के बक्शीडीह स्थित एक खेत में देखा गया। इसके बाद वह टाटीझरिया के भराजो गांव पहुंचा, जहां दो अन्य लोगों को भी घायल कर दिया।

बहरहाल, घटना के बाद डरे-सहमे ग्रामीण दुर्गा मंदिर में शरण लिए हुए हैं। उनका कहना है कि अब सुबह ही अपने-अपने गांव जाएंगे। उधर, हाथी के वहां से जाने के बाद देर तक लोगों को सावधान रहने के लिए माइक से उद्घोषणा होती रही। वहीं, वन विभाग की टीम भी लोगों को हाथी से दूर रहने, अपने घरों में ही रहने और उसे तंग न करने की अपील करती दिखाई दी।

मालूम हो कि रविवार की रात और सोमवार को झुंड से बिछड़े हाथी ने पांच लोगों को कुचलकर मार डाला था। यह घटनाएं कई गांवों में हुई थी। यह हाथी एक महिला को घायल भी कर चुका है। जिले में अचानक पांच लोगों की मौत से दहशत का आलम है। वन विभाग झुंड से बिछड़े इस हाथी को न तो झुंड से मिला पा रहा और न ही खदेड़ पा रहा है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman