जागरण संवाददाता, राची:

झारखंड ब्रह्मर्षि युवा मंच के द्वारा डोरंडा स्थित आकाश कंप्लेक्स के सभागार में बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉक्टर श्रीकृष्ण सिंह की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर डॉक्टर श्रीकृष्ण सिंह की प्रतिमा पर पुष्पाजलि अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित की गई। इसके उपरात झारखंड के विभिन्न जिलों से ब्रह्मार्षि परिवार के आए हुए लोगों का मंच के अध्यक्ष अमित कुमार के द्वारा स्वागत किया गया।

कार्यक्त्रम में उपस्थित लोगों को कोडरमा के पूर्व सासद डॉ. रवींद्र कुमार राय ने संबोधित करते हुए कहा कि श्रीकृष्ण सिंह अविभाजित बिहार के ही सिर्फ नेतृत्वकर्ता नहीं थे बल्कि पूरे देश में उनकी एक पहचान थी। सिर्फ ब्रह्मार्षि परिवार के नेता नर्ह थे बल्कि समाज के सभी वगरें का प्रतिनिधित्व करते थे।

पूर्व आइजी लक्ष्मण प्रसाद सिंह ने कहा कि श्रीकृष्ण सिंह का अविभाजित बिहार की आधारभूत संरचना के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान है। ब्रह्मार्षि परिवार ने हमेशा समाज के दबे कुचले लोगों को आगे बढ़ाने का कार्य किया है।आज अपने परिवार को एकजुट करने की जरूरत है।

झारखंड ब्रह्मार्षि युवा मंच के अध्यक्ष अमित कुमार ने कहा कि बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉ श्री कृष्ण सिंह सभी समाज के सभी वगरें के सर्वमान्य नेता थे। ब्रह्मार्षि युवा मंच की स्थापना इस उद्देश्य के साथ की गई है कि डा. श्रीकृष्ण सिंह की विचारधारा को किस प्रकार से आगे बढ़ाई जाए। हमारी यह कोशिश रहेगी कि उनकी विचारधारा उनकी सोच को हर परिवार तक कैसे पहुंचाई जाए। इसकी कोशिश आने वाले दिनों में झारखंड ब्रह्मार्षि युवा मंच के माध्यम से की जाएगी। उन्होंने कहा कि बाबू श्री कृष्ण सिंह की जयंती के अवसर पर झारखंड में सार्वजनिक अवकाश घोषित करने को लेकर मंच का प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर अनुरोध करेगा। भाजपा नेता सुबोध कुमार सिंह गुड्डू ने कहा कि श्री कृष्ण बाबू पहले ऐसे नेता थे जिन्होंने बिहार को गढ़ने का कार्य किया। बाबा बैजनाथ देवघर स्थित मंदिर को दलितों के लिए खोलने का निर्णय उन्हीं का था। एमसीएल की स्वतंत्र निदेशक सीमा शर्मा ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ब्रह्मार्षि परिवार के लोगों को एकजुट करने की आवश्यकता है एवं परिवार के नीचे तबके के लोगों को समाज के मुख्यधारा में कैसे स्थापित किया जाए इसके लिए विचार करने की जरूरत है।

पूर्व अपर महाधिवक्ता मनोज टंडन ने कहा कि श्री कृष्ण सिंह जरूर ब्रह्मार्षि परिवार के थे लेकिन उनके लिए पूरा बिहार एक परिवार था। उन्होंने पूरे बिहार की उन्नति प्रगति की रचना की। ऐसे शख्सियत के विचारधारा को आगे बढ़ाने की जरूरत है। कार्यक्त्रम को मुनचुन राय,बबलू शुक्ल जय शकर ने भी संबोधित किया । इस अवसर पर संजय पाडे, सेवानिवृत्त आएएस अधिकारी अनिल कुमार सिंह भी उपस्थित थे। झारखंड ब्रह्मर्षि युवा मंच के द्वारा श्री कृष्ण सिंह की जयंती के अवसर पर लोगों को सम्मानित किया जिन्होंने कोविड /समाजसेवा के क्षेत्र में अच्छा कार्य किया 1.डॉक्टर सुधीर पाडे

2.डा. उच्जवल राय

3.डा. प्रशात कुमार

4.रजनी आनंद

5.मुनचुन राय

6.बृजेश कुमार

7.डॉक्टर भूषण चंद्र ,

8.सतीश शर्मा,

9.प्रभात दुबे ,

10.कर्नल साहब

11.सपन महाथा

12.डॉ हर्ष कुमार

13.जयशकर

14.चंदन शर्मा

15.अनिल कुमार सिंह सेवानिवृत्त आइएएस

16.बाबू सिंह (समाजसेवी)

17.डा. अभिषेक

झारखंड ब्रह्मार्षि युवा मंच की परिकल्पना एवं कार्ययोजना के बारे में श्रीनिवास ने अवगत कराया । कार्यक्रम का संचालन आकाश भूषण ने किया एवं धन्यवाद ज्ञापन बबलू शुक्ला ने किया। रणेश आनंद ने बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डा. श्रीकृष्ण सिंह की जीवनी पर प्रकाश डाला।

इस कार्यक्रम के आयोजन में सुजीत सिंह, विकास सिंह,आंचल तिवारी,रजनी आनंद, सुजाता कुमारी, श्रीनिवास, आकाश भूषण,रणेश आनद, राज कुमार सिंह,रीना सिंह,नलिन पाण्डेय, रवि रंजन कुमार, मनीष राय की महती भूमिका रही।

इस अवसर पर झारखंड के सभी जिलों से ब्रह्मार्षि परिवार के लोग शामिल थे।

Edited By: Jagran