रांची जासं। Shopkeepers Protest : रांची नगर निगम(Ranchi Municipal Corporation) द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण हटाओ अभियान के विरोध में फुटपाथ दुकानदारों ने आंदोलन शुरू कर दिया हैं। बुधवार को दिन रांची फुटपाथ दुकानदार संघ ने राजभवन(Raj Bhawan) के सामने ने धरना प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन में फुटपाथ दुकानदारों ने जीने खाने का हक की मांग करते हुए जो 'जमीन सरकारी है, वही जमीन हमारी है' का नारा लगाया। साथ ही आंदोलनकारियों की मांग है कि रांची नगर निगम फुटपाथ दुकानदारों को परेशान करना बंद करे।

कचहरी चौक से मेन रोड होते हुए बिरसा चौक तक हटाया गया था अतिक्रमण:

गौरतलब, है कि रांची नगर निगम ने कचहरी चौक से मेन रोड होते हुए बिरसा चौक और रातू रोड होते हुए बिरसा चौक तक अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाने का निर्णय लिया है। इन दोनों सड़कों को फुटपाथ दुकानदारों से मुक्त किया जाएगा। इसी को लेकर अक्रमण हटाओ अभियान चल रहा है। रांची नगर निगम की टीम ने कचहरी चौक से मेन रोड होते हुए बिरसा चौक तक अतिक्रमण हटाया था।

दुकानदार संघ सचिव समेत चार लोगों के खिलाफ कराई थी प्राथमिकी दर्ज:

सोमवार को बिरसा चौक पर दुकानदारों ने हंगामा काटा था और जो भी सामान जप्त हुआ था। उसे नगर निगम के वाहन को क्षतिग्रस्त कर उठा ले गए थे। इसके खिलाफ रांची नगर निगम के इंफोर्समेंट टीम के अधिकारियों ने डोरंडा थाने में रांची फुटपाथ दुकानदार संघ सचिव अनिता दास समेत चार लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

इंफोर्समेंट टीम दुकानदारों से कर रहे वसूली, पैसा नहीं देने पर किया जा रहा है परेशान : आरोप

इसके बाद से ही फुटपाथ दुकानदार संघ हाकर एकजुट हो गया है। बुधवार को दिए गए धरने में रांची फुटपाथ दुकानदार हाकर संघ के अलावा नेशनल हॉकर फेडरेशन, अटल स्मृति वेंडर मार्केट, नेपाल हाउस फुटपाथ दुकानदार हाकर संघ, पुरुलिया रोड फुटपाथ दुकानदार संघ, बिरसा चौक फुटपाथ दुकानदार संघ आदि के सदस्य और फुटपाथ दुकानदार धरने में शामिल हुए। धरना दोपहर बाद 1:15 बजे तक चला धरने के दौरान अनिता दास ने आरोप लगाया की इंफोर्समेंट टीम के कर्मचारी फुटपाथ दुकानदारों से वसूली कर रहे हैं। जो लोग पैसा नहीं दे रहे हैं उनको परेशान किया जा रहा है।

जब्त सामानों की नहीं बनाई जाती है कोई सूची......

उन्होंने कहा कि नगर निगम ऐसे इंफोर्समेंट टीम के कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करे और फुटपाथ दुकानदारों को परेशान करना बंद करे। उनका आरोप है कि जब भी नगर निगम अभियान चलाता है। तो फुटपाथ दुकानदारों के सामान जब्त कर लिए जाते हैं। जब्त सामानों की कोई सूची नहीं बनाई जाती है। जबकि, नियमानुसार जब्त सामानों की जब्ती सूची बनाई जानी चाहिए और इसकी एक प्रति फुटपाथ दुकानदार को भी दी जानी चाहिए। ताकि, बाद में उस सामान को कोर्ट से छुड़ाया जा सके।

Edited By: Sanjay Kumar