रांची, [संजीव रंजन]। 15 साल प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने के बाद भारतीय टीम में शामिल किए गए झारखंड के स्पिन गेंदबाज शाहबाज नदीम अपने पहले टेस्ट मैच में छाप छोडऩे में सफल रहे। पहले टेस्ट में नदीम ने चार विकेट लिए और एक रन आउट किया। बल्लेबाजी कर एक रन बनाकर नाबाद रहे। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नदीम का यह प्रदर्शन उनकी प्रतिभा को दर्शाने के लिए काफी है। यह माना जा रहा है कि इस प्रर्दशन के बाद वे भारत के लिए और भी टेस्ट खेलेंगे।

मैच के बाद नदीम ने कहा, अपने घर पर खेलने का लाभ मुझे मिला। मुझपर कोई दबाव नहीं था। उसपर से टीम के खिलाडिय़ों ने मेरा हौसला बढ़ाया। विशेषकर कप्तान विराट कोहली व कोच रवि शास्त्री ने मुझे काफी हौसला दिया। यह पूछे जाने पर पहली गेंद फेंकने के समय क्या दबाव था। नदीम ने कहा, यह वह गेंद था जिसे मैं फेंकने के लिए वर्षों से सपना देखता आया था। लेकिन यह ग्राउंड मेरा जाना पहचाना है, प्रथम श्रेणी मैच खेलने का अनुभव मेरे काम आया । और मैने उसी अंदाज में गेंदबाजी की। मैने लेंथ व लाइन को सही रखने पर ध्यान दिया जिस कारण लगातार तीन ओवर मेडन गये।

मुझे अभी काफी कुछ सीखना है

यह पूछने पर कि पहला विकेट लेने का क्या अनुभव कैसा रहा, इस पर नदीम ने कहा, मुझे लगा कि यह मेरे करियर का पहला विकेट है। गेंद गिर कर तेजी से घुमी और बावुमा चूक गए।  टीम के कोच रवि शास्त्री ने उस गेंद को वेटरन लेग स्पिनर बिशन सिंह बेदी की गेंद की तरह बताने पर नदीम ने कहा, मैने तो अभी शुरुआत की है मुझे अभी काफी कुछ सीखना है। 

कोहली ने नदीम की प्रशंसा की

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने स्पिनर नदीम की जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि उसने शानदार गेंदबाजी की। पहले टेस्ट में चार विकेट व एक रन आउट उसकी प्रतिभा की कहानी कह रही है। उसकी गेंद पर स्पीड, टर्न है। वह गेंद को फ्लाइट में बदलाव कर सकता है। मेरा मानना है कि वह यहां से आगे ही जाएगा।

धौनी ने दिए टिप्स 

मैच के बाद जब महेंद्र सिंह धौनी भारतीय ड्रेसिंग रूम पहुंचे तो उन्होंने सभी खिलाडिय़ों को जीत की बधाई दी। इसके साथ ही नदीम को कुछ टिप्स दिए। नदीम ने बताया कि माही भाई ने मेरी प्रशंसा की और कहा सही दिशा में लगातार गेंदबाजी कर बल्लेबाज को गलती करने पर मजबूर करो। उन्होंने पहले मैच में मेरे प्रदर्शन को सराहते हुए कहा इसे आगे बढ़ाना है।

नदीम का पहला विकेट बेदी की याद दिला गया

शाहबाज नदीम ने अपने करियर का पहला विकेट जिस गेंद पर लिया है उसे देखकर वेटरन पूर्व स्पिनर व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी की याद ताजा हो गई। अगर पाजी (बेदी) ग्राउंड में मैच देख रहे होते तो वो इस गेंदबाज के लिए चियर करते नजर आते। यह बातें भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने झारखंड के स्पिन गेंदबाज शाहबाज नदीम के लिए कही। कुलदीप यादव के चोटिल होने के बाद नदीम को अंतिम समय में टीम में शामिल किया गया था और उसने अपने पहले मैच में चार विकेट लिए। 

पहले मैच का दबाव कहीं देखने को नहीं मिला

शास्त्री ने कहा, झारखंड का यह गेंदबाज काफी प्रतिभावान है। उस पर पहले मैच का दबाव कहीं देखने को नहीं मिला। उसने पहले गेंद से ही सही जगह पर गेंदे फेंकी। पंद्रह साल का प्रथम श्रेणी मैचों का अनुभव उसके काम आया। प्रथम श्रेणी मैचों में 400 से ज्यादा विकेट लेना आसान नहीं होता। उसने यहां भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया।

 

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप