रांची, जासं। सावन मास आज से आरंभ हो रहा है। इस वर्ष सावन पूरे तीस दिनों का होगा। 15 अगस्त को सावन का अंतिम दिन है। इस दौरान राजधानी शिवमय बनी रहेगी। जलार्पण के लिए सुबह से ही विभिन्न शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ेगी। मंदिरों में सावन की तैयारी पूरी कर ली गई है। साज-सजावट का कार्य अंतिम चरण में है। इस दौरान पूरे सावन राजधानी बोल-बम के जयकारे से गुंजायमान रहेगी।

मंगलवार को रांची रेलवे स्टेशन और खादगढ़ा बस स्टैंड पर देवघर जाने वाले कांवरियों की भीड़ देखी गई। यही स्थिति पूरे सावन मास देखने को मिलेगा। इधर, सावन शुरू होते ही बाजार में केसरिया वस्त्र की डिमांड बढ़ गई है। दुकानों में कांवरियों के लिए हर रेंज का भगवा वस्त्र उपलब्ध है।

पहाड़ी मंदिर भक्तों के लिए तैयार, सोमवारी पर होगी भव्य सजावट
देवघर के बाद सबसे ज्यादा भीड़ राजधानी के प्रसिद्ध पहाड़ी मंदिर में होती है। सावन में लाखों भक्त पहाड़ी बाबा को जलाभिषेक करते हैं। भक्तों के लिए पहाड़ी मंदिर तैयार हो गया है। टूटी-फूटी सीढि़यों को ठीक कर दिया गया है। महिलाओं एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग लाइन होगी। इसको लेकर सीढ़ी पर डिवाईडर लगाया गया है। भक्तों के लिए पेजयल व शौचालय की पर्याप्त सुविधा होगी।

जलार्पण करने पहुंचने वाले भक्तों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए मंगलवार को पहाड़ी मंदिर विकास समिति की विशेष बैठक हुई। समिति के कोषाध्यक्ष अभिषेक आनंद की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में व्यवस्था की समीक्षा की गई। देर शाम से मुख्य मंदिर के साथ प्रवेश द्वार की साज-सज्जा शुरू हो गई। रंग-बिरंगी इलेक्ट्रिक लाईट से दूर तक पहाड़ी मंदिर जगमग करेगा।

सबसे ज्यादा भीड़ सोमवारी को होगी। इस दिन सुरक्षा के विशेष इंतजाम होंगे। समाजिक संगठनों के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहेंगे। मंदिर के मुख्य पुजारी मनोज मिश्र के अनुसार सुबह तीन बजे प्रथम पूजा आरंभ होगा। बाबा का रुद्राभिषेक होगा। मंगलआरती के बाद चार बजे मंदिर का पट आम भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा। देर शाम तक दर्शन सुलभ होगा। संध्या में महादेव का भव्य श्रृंगार किया जाएगा।

जलाभिषेक और संध्या श्रृंगार का लाइव प्रसारण होगा। सुरक्षा के दृष्टिकोण से मंदिर पसिर में 32 सीसीटीवी कैमरा लगाये गए हैं। इससे चप्पे-चप्पे पर नजर रखा जाएगा। साथ ही, धूप-पानी से बचने के लिए मंदिर परिसर में टेंट लगाया गया है। नियमित पूजा करने वालों को मिलेगा पास सावन में होने वाले भीड़ को देखते हुए मंदिर समिति की ओर से विशेष इंतजाम किया गया है।

मंदिर में नियमित पूजा-अर्चना करने वालों को लाइन में ना लगना पड़े इसके लिए विशेष पास देने की योजना बनी है। ताकि नियमित आने वाले भक्त भीड़-भाड़ में भी बिना लाईन में लगे जलाभिषेक कर सके। समिति के अनुसार करीब 150 पास जारी किया जाएगा। सोमवार को अरघा सिस्टम से होगा जलाभिषेक देवघर की तरह पहाड़ी मंदिर में चारों सोमवारी को अरघा सिस्टम से जलाभिषेक होगा। पहाड़ी बाबा के शिवलिंग के चारों ओर चार अरघा लगाये जाएंगे। भक्त अरघा के माध्यम से ही जलाभिषेक करेंगे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप