संसू, रातू : छोटानागपुर के महान स्वतंत्रता सेनानी व स्वतंत्र भारत के प्रथम सासद ढेबले उराव की 158 वीं जयंती समारोह गुरुवार को गुडू रातू में मनाई गई। कुरमाली भाषा परिषद के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सासद संजय सेठ व कुरमाली भाषा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजाराम महतो उपस्थित हुए। सासद संजय सेठ ने कहा कि महान स्वतंत्रता सेनानी ढेबले उराव के सम्मान में उनकी आदमकद प्रतिमा का निर्माण किया जाएगा। सासद ने ग्रामीणों से प्रतिमा के लिए जमीन चिन्हित करने की बात कही। संजय सेठ ने कुरमाली भाषा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा राम महतो की प्रशसा करते हुए कहा कि राजाराम महतो पिछले 42 वर्षों से कला संस्कृति को बचाने में जुटे हैं। उन्होंने महान स्वतंत्रता सेनानी ढेबले उराव को जहा उपेक्षित होने से बचाया है वही सरकार का भी ध्यान आकर्षित किया है। राजाराम महतो ने कहा कि ढेबले उराव का सामाजिक, शैक्षणिक और राजनीतिक क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान रहा है। वह शहीद बिरसा मुंडा के सलाहकार के अलावे झारखंड अलग प्रात की माग रखने वाले पहले व्यक्ति थे। कार्यक्रम को डा. अशोक उराव, मनोज गुप्ता, परमेश्वर गोप, प्रभु लोहरा, शिव शकर नीलकंठ, विजय रंजन, दिनेश कुमार ओझा आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्त्रम में 25 सास्कृतिक दलों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने छउ नृत्य व गीत संगीत का आनंद लिया। इससे पूर्व ढेबले उराव के चित्र पर माल्यार्पण कर उनके वंशजों को शॉल व साड़ी देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन दिलीप गोप व धन्यवाद ज्ञापन धनेश्वर राम ने दिया।

Edited By: Jagran