रांची जासं। Ranchi Crime News : कश्मीर(Kashmir) से ऊन लाकर रांची में बेचने वाले कश्मीरी युवकों(Kashmiri Youth) के साथ राजधानी के डोरंडा थाना क्षेत्र में मारपीट की गई। कश्मीरी युवकों ने डोरंडा(Doranda) थाना में पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत दर्ज करने के बाद थाने की पुलिस ने 3 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस ने बताया कि मामले की फिलहाल जांच की जा रही है और लोग दूसरे प्रकार का रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। जल्द ही इस मामले की सही जानकारी हासिल कर ली जाएगी।

11 नवंबर के दिन हथियार के बल पर चार कश्मीरी युवकों के साथ की थी मारपीट:

मालूम हो कि कि 11 नवंबर को डोरंडा थाना क्षेत्र के पत्थर रोड में एक बदमाश ने हथियार के बल पर चार कश्मीरी युवकों के साथ मारपीट की थी। युवकों को जबरन कुछ नारे दोहराने को कहा था। करीब 10 मिनट तक युवकों को रोके रखा। इस प्रकार की घटना को देखकर काफी राहगीर जुटे थे। बाद में स्थानीय लोगों ने बीच बचाव कर मामला शांत कराया था। पीड़ित युवक बिलाल अहमद, सब्बीर अहमद, वसीम अहमद व एक अन्य मूल रूप से कश्मीर के रहने वाले हैं। जाड़े के दिनों में कश्मीर से ऊन लाकर रांची में बेचते हैं।

पीटे गए कश्मीरी यूवकों का नाम तनवीर अहमद शाह, रियाज अहमद वाणी, बुरहान और गुलान नबी है। इनका आरोप है कि कडरू पुल के पास बीस की संख्या में बदमाशों ने हमला किया और सारे सामान लेकर फरार हो गए।

थाना स्तर पर बनाया जाएगा कश्मीरी यूवकों का लिस्ट : सिटी डीएसपी

कश्मीरी युवकों के साथ हुई मारपीट की घटना को देखते हुए सदर डीएसपी प्रभात रंजन ने कहा कि थाना स्तर पर सभी कश्मीरी युवकों का लिस्ट बनाया जाएगा। उस लिस्ट को संबंधित थाना प्रभारी को दिया जाएगा। प्रभात रंजन ने बताया कि शहर में कुछ ऐसे असामाजिक तत्व है जो कानून व्यवस्था को चैलेंज करते हैं लेकिन पुलिस और प्रशासन की टीम ऐसे असामाजिक तत्वों से निपटने में पूरी तरह से सक्षम है।

असामाजिक तत्वों के खिलाफ पुलिस पहले भी लड़ती रही है और आगे भी लड़ेगी: सदर डीएसपी

आगे डीएसपी ने बताया कि इस मामले को लेकर प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और अपराधियों की तलाश में पुलिस जुट गई है। पुलिस जल्द ही सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजेगी। इस प्रकार की घटना आगे ना हो इसके लिए पुलिस और प्रशासन की टीम काम करेगी। अंत में सदर डीएसपी प्रभात ने कहा कि झारखंड में किसी भी हाल में आपसी सौहार्द को खतरे में नहीं डाला जाएगा और असामाजिक तत्वों के खिलाफ पुलिस पहले भी लड़ती रही है और आगे भी लड़ेगी।

Edited By: Sanjay Kumar