रांची, जासं। Ranchi Crime राजधानी रांची के हाइ सिक्योरिटी जोन मोरहाबादी में गैंगवार व कालू लामा की हत्या सहित नौ मामलों में वांछित लवकुश शर्मा गैंग के शूटर सोनू शर्मा उर्फ अमित शर्मा उर्फ चमहा को पुलिस ने चतरा से गिरफ्तार कर लिया। वो मूलरूप से बिहार के गया जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र का रहने वाला है। रांची में बरियातू थाना क्षेत्र के कुसुम विहार रोड नंबर सात में रहता था। 27 जनवरी को मोरहाबादी में दिन दहाड़े कालू लामा की हत्या के बाद सोनू शर्मा भाग कर पटना चला गया था। वहां एक-दो दिन रुकने के बाद लगातार ठिकाने बदलता रहा। पुलिस से बचने के लिए आठ माह में साेनू शर्मा प्रत्येक दिन ठिकाना बदलता रहा। कभी बिहार के गया स्थित अपने पैतृक गांव तो कभी कहीं और छिप जाता था। रांची पुलिस की टीम लगातार उसका पीछा करते रही जबकि वो बिहार के अलावा झारखंड और उत्तरप्रदेश में इधर-उधर भागता रहा।

शराब पीने के लिए आया था चतरा, पुलिस ने दबोचा

शनिवार को रांची पुलिस को सूचना मिली कि सोनू शर्मा अपने दोस्तों के साथ शराब पीने के लिए चतरा आने वाला है। सूचना पर पुलिस की एसआइटी चतरा पहुंची। चतरा पुलिस की मदद से टीम ने जाल बिछाया और अंतत: साेनू पकड़ा गया। उसके साथ पांच अन्य युवक भी पकड़े गए। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर रही है।

रविवार को एसएसपी किशोर कौशल ने खुलासा करते हुए कहा कि आपसी वर्चस्व में सोनू शर्मा ने अपने साथियों के साथ कालू लामा की हत्या कर दी। सोनू शर्मा के खिलाफ रांची के सात थानों में हत्या, हत्या के प्रयास, रंगदारी, मारपीट सहित नौ संगीन मामले दर्ज हैं। प्रारंभिक छानबीन में साेनू के अलावा अन्य युवकों का कोई आपराधिक इतिहास नहीं मिला है।

एसएसपी के अनुसार, बिहार में शराबबंदी है ऐसे में सोनू शराब पीने और मौज मस्ती करने के लिए चतरा पहुंचा था। यहां से कहीं और भागने का प्लान था। हालांकि, इससे पहले ही पुलिस की गिरफ्त में आ गया। पुलिस ने सोनू के पास से बरियातू थाना क्षेत्र के एक व्यवसायी से 10 लाख रुपये रंगदारी मांगने में प्रयुक्त दो मोबाइल व एक डोंगल जब्त किया है। पूछताछ में सोनू ने बताया कि 15 दिन पहले इंटरनेट वाट्सऐप कालिंग के जरिये लवकुश शर्मा से बातचीत हुई थी।

गिरोह के सरगना लवकुश को पकड़ने में हांफ रही पुलिस

सोनू शर्मा कुख्यात अपराधी लवकुश शर्मा का ममेरा भाई है। वो सबसे भरोसेमंद शूटर भी है। लवकुश शर्मा के निर्देश पर ही सोनू शर्मा आपराधिक घटना को अंजाम देता है। आठ माह के कड़ी मशक्कत के बाद रांची पुलिस सोनू शर्मा को तो गिरफ्तार कर ली लेकिन लवकुश शर्मा तक पहुंचने में अब भी नाकाम साबित हुई है। हाइटेक एसआइटी लवकुश को पकड़ना तो दुर पुलिस यह भी पता नहीं लगा पायी है कि आखिर वो किस राज्य में छिपा है। लवकुश भारत में है या फिर भागकर कहीं और चला गया इसकी भी खबर नहीं है। दरअसल, गैंग पर तभी अंकुश लग पायेगा जब पुलिस लवकुश शर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेजेगी।

पनाह देने वालों पर अब पुलिस कसेगा शिकंजा

एसएसपी के अनुसार रांची पुलिस सोनू शर्मा को पनाह देने वाले संबंधियों पर भी शिकंजा कसेगा। पुलिस जांच की जा रही है। जांचोपरांत सोनू को पुलिस से बचाने में मदद करने वाले के खिलाफ भी कानून सम्मत कार्रवाई की जाएगी।

होटलों के बजाय संबंधियों के घर छिपता था सोनू

फरारी के दौरान साेनू शर्मा होटल-लाज के बजाय अपने रिश्तेदारों व दोस्तों के घर रुकता था। ताकि पुलिस को भनक न लगे। पुलिस को यह भी जानकारी मिली है कि कालू लामा की हत्या के बाद सोनू जब गांव गया तो दाेस्तों के साथ जमकर पार्टी की। पुलिस को उसकी तस्वीर भी मिली है।

Edited By: Sanjay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट