रांची, राज्य ब्यूरो। ओएलएक्स पर गाड़ी बेचने का विज्ञापन डालकर लोगों को चूना लगाने का धंधा तेजी से फलफूल रहा है। इस बार साइबर अपराधियों ने राजभवन में तैनात एक सिपाही महेश कुमार को ही निशाना बना दिया है। महेश मूल रूप से बोकारो का रहने वाला है। अपराधियों ने उसे स्कूटी देने के नाम पर 36 हजार 200 रुपये का चूना लगाया है। इस मामले में महेश ने कोतवाली थाने में अज्ञात अपराधियों के विरुद्ध लिखित शिकायत की है।

महेश कुमार के अनुसार एक सप्ताह पहले ओएलएक्स पर उसने स्कूटी बिक्री का एक विज्ञापन देखा। यहां भी बेचने वाले ने खुद को सेना का अधिकारी बताया और कहा कि उसका स्थानांतरण दानापुर हो गया है, इसलिए वह अपनी स्कूटी बेचना चाहता है। उसने महेश को फांसने के लिए अपना आई कार्ड व आधार कार्ड वाट्सएप पर भेजा। स्कूटी की खरीद-बिक्री के संदर्भ में चार-पांच बार फोन पर बातचीत हुई।

स्कूटी का सौदा 36200 रुपये में तय हुआ। महेश ने उसे गूगल पे से रुपयों का भुगतान कर दिया। रुपये देने के बाद भी जब स्कूटी नहीं मिली तो महेश ने उसे फोन किया। अब आरोपित ने फोन उठाना बंद कर दिया। इसके बाद महेश समझ गया कि वह ठगी का शिकार हो गया है। कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज की गई है।

जेवियर के छात्र को लगाया था 19 हजार का चूना

पूर्व में भी ओएलएक्स पर मोबाइल बेचने के नाम पर ठगी के मामले सामने आते रहे हैं। 20 फरवरी को जेवियर कॉलेज के छात्र को मोबाइल बेचने के नाम पर 19 हजार रुपये का चूना लगाया था। छात्र साहिल के अनुसार उसे भी सेना का अधिकारी बनकर ही ठगा गया था। पंडरा में कार बेचने के नाम पर दो लाख रुपये की ठगी का मामला भी सामने आ चुका है।

Posted By: Alok Shahi