रांची, राज्य ब्यूरो। पश्चिमी सिंहभूम जिले के टोकलो थाना क्षेत्र स्थित लांजी पहाड़ी पर चार मार्च को माओवादियों के डायरेक्शनल बम के हमले में तीन जवानों की शहादत व एक जवान के जख्मी होने के मामले का अनुसंधान राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) कर रही है। एनआइए ने इस घटना में जिला पुलिस के हाथों गिरफ्तार पांच नक्सलियों को रिमांड पर लिया है, जिनसे पूछताछ कर रही है। जिन्हें रिमांड पर लिया गया है, उनमें टोकलो थाना क्षेत्र के ही लांजी गांव के रामराइ हांसदा, चितपली गांव के अशोक कुमार महतो, हरजोरा गांव के सुरतो महली, कहलगांव हेटनाबेरा स्थित भरनीयाटोला के सीताराम समद और सरायकेला-खरसांवा जिले के कुचाई थाना क्षेत्र स्थित जोंब्रोटोला के नेल्शन कंडीर शामिल हैं।

एनआइए इन आरोपितों से घटना के संबंध में विस्तृत जानकारी ले रही है, जैसे- माओवादियों की योजना, डायरेक्शनल बम की संख्या और क्षेत्र में सक्रिय माओवादियों का विवरण आदि। एनआइए ने गत माह ही टोकलो थाने में दर्ज प्राथमिकी को टेकओवर करते हुए नई प्राथमिकी दर्ज की थी। उक्त प्राथमिकी में एक करोड़ रुपये के इनामी अनल दा उर्फ तूफान, 10 लाख के इनामी महाराज प्रमाणिक सहित 33 नामजद व 20-25 अज्ञात माओवादियों को आरोपित किया गया था।

दर्ज प्राथमिकी के अनुसार टोकलो थाना क्षेत्र के लांजी पहाड़ी पर माओवादियों के दस्ते की जानकारी मिलने पर पहुंची पुलिस पर माओवादियों ने डायरेक्शनल बम से हमला कर दिया था, जिसमें तीन जवान शहीद हुए थे और दो जवान जख्मी हो गए थे। शहीद जवानों में झारखंड जगुआर के सिपाही हरिद्वार साह, किरण सुरीन व हवलदार देवेंद्र कुमार पंडित शामिल थे। घायलों में सिपाही दीप टोपनो और निकू उरांव शामिल थे। पुलिस की छापेमारी में तीन फीट लंबा लोहे का पाइप, रबर ट्यूब, बिजली का तार व लोहे के स्पिलिंटर बरामद हुआ था। इस पूरे प्रकरण का अनुसंधान एनआइए रांची शाखा के डीएसपी अजय कुमार सिन्हा कर रहे हैं।

पश्चिमी सिंहभूम पुलिस ने इन 10 आरोपितों को किया था गिरफ्तार

रामराई हासंदा, नेल्शन कंडीर, विल्कन सामड, सीताराम सामड, रोशन बोदरा, सुरतो महली, सोमनाथ महली, अशोक कुमार महतो, मंगल मुंडा व महादेव मुंडा।