जागरण संवाददाता, रांची। झारखंड के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नए डाकघर खोले जाएंगे। केंद्र सरकार के संचार मंत्रालय ने झारखंड में 660 नए डाकघर खोलने की अनुमति दे दी है। पूरे देश में 1789 नए डाकघर खोलने की योजना है। सबसे ज्यादा झारखंड में ही खुलेंगे। झारखंड के अधिकतर ग्रामीण क्षेत्र नक्सल प्रभावित इलाकों में हैं।
सभी डाकघरों में कोर बैंकिंग, माइक्रो एटीएम सहित अन्य वित्तीय समायोजन की सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इस वर्ष के अंत तक नए डाकघर खोल दिए जाएंगे। पूर्व में 20 से 30 किलोमीटर पर डाकघर थे। अब हर 10 किलोमीटर की दूरी पर डाकघर होंगे। पूर्व में 11 सौ पंचायतें बिना डाकघर के थीं। झारखंड डाक परिमंडल ने वर्तमान में नौ सौ नए डाकघर खोलने का प्रस्ताव मंत्रालय को भेजा है।

कहां होंगे नए डाकघर
- बोकारो क्षेत्र, चतरा, गढ़वा, गिरिडीह, गुमला, हजारीबाग, पूर्वी सिंहभूम, रामगढ़, रांची, सिमडेगा में नए डाकघर खोले जाएंगे। सबसे ज्यादा पलामू में 133, गढ़वा में 126, चतरा में 72 और पश्चिमी सिंहभूम जिले में 66 डाकघर खोले जाएंगे।
------
1320 नए पदों के लिए फरवरी से होगी बहाली
- नए डाकघर खोलने से रोजगार के नए अवसर बहाल होंगे। फरवरी माह से 1320 पदों के लिए बहाली होगी। 13 डाक इंस्पेक्टरों की भी बहाली होगी। इसके अलावा पांच हजार लोगों के लिए अप्रत्यक्ष रूप रोजगार सृजन होगा। लक्ष्य है कि हर डाकघर से पांच से 10 हजार उपभोक्ताओं को सेवा उपलब्ध कराई जाए।
-------
11 डाकघर कोर बेकिंग से जुड़े
रांची डाक सर्किल के तीन जिले और जमशेदपुर डाक सर्किल के आठ डाकघर वर्तमान में पूर्ण रूप से कोर बैकिंग सोल्यूशन से जुड़े चुके हैं। वर्तमान में दुमका, हजारीबाग, डालटनगंज सर्किल में सीबीएस की प्रक्रिया जारी है।
भारत में सबसे ज्यादा झारखंड में नए डाकघर खोलने की स्वीकृति मिल चुकी है। नए डाकघरों में नए पदों के लिए भी बहाली की जाएगी। इस वर्ष हर पंचायत में आधुनिक डाकघर खोले जाएंगे- अनिल कुमार, डाक महाध्यक्ष, झारखंड डाक परिमंडल ।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप