रांची, जेएनएन। नक्सली सुधाकरण और उसकी पत्नी नीलिमा ने तेलंगाना में आत्मसमर्पण कर दिया है। पूछताछ में दोनों ने पुलिस के सामने कई अहम खुलासे किए हैं, मगर अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। हालांकि झारखंड पुलिस आधिकारिक बयान नहीं दे रही है। जानकारी मिली है कि तेलंगाना में आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को जेल नहीं भेजा जाता है और सभी चार्ज वापस कर दिए जाते हैं।

सुधाकरण पर जहां झारखंड में एक करोड़ का इनाम था, वहीं उसकी पत्नी पर 25 लाख का इनाम घोषित था। झारखंड पुलिस की रिवॉर्ड सूची से अब दोनों नाम कट जाएंगे। 

जानिए, कौन है नक्सली सुधाकरण और उसकी पत्नी नीलिमा
नक्सली सुधाकरण माओवादियों की सेंट्रल कमेटी का सदस्य है। वह तेलंगाना के अदिलाबाद का रहने वाला है। इस पर एक करोड़ रुपये का इनाम घोषित है। सुधाकरण ने झारखंड में काफी संपत्ति जमा की है। सुधाकरण की पत्नी नीलिमा तेलंगाना के वरांगल की रहने वाली है।

गौरतलब है कि चुटिया थाना क्षेत्र में स्टेशन रोड स्थित पटेल चौक के पास से 30 अगस्त, 2017 को एक करोड़ के इनामी नक्सली सुधाकरण के सहयोगी सत्यनारायण रेड्डी व सुधाकर के भाई बी. नारायण पकड़े गए थे। उनके पास से लेवी के 25 लाख रुपये नगद आधा किलोग्राम सोना व नक्सली दस्तावेज आदि मिले थे। सभी रुपये तेलंगाना ले जाए जा रहे थे। इस मामले में 31 अक्टूबर को एनआइए ने प्राथमिकी दर्ज की थी। जिसके बाद से ही एनआइए इस मामले की जांच चल रही है।

यह भी पढ़ेंः नक्सली सुधाकरण रेड्डी मामले की जांच करेगी एनआइए

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप