राजधानी को अपराध मुक्त बनाने के लिए संवेदनशील स्थानों को चिह्नित किया गया है। ऐसे स्थल, मार्ग जहां सबसे अधिक सम्पत्ति मूलक अपराध होते हैं। क्राइम हॉट स्पॉट पर टाइगर मोबाइल, पीसीआर तथा थाना ट्रोलिंग के माध्यम से विशेष निगरानी रखी जाती है। हम अपने सीमित साधनों का अपराध नियंत्रण हेतु ऑप्टिमम तरीके से इस्तेमाल कर सकें।

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी

संगठित अपराध विशेष कर रंगदारी, फिरौती के लिए अपहरण, भू-माफिया द्वारा अपराधियों के माध्यम से जबरन जमीन कब्जा करने तथा अन्य संगठित आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वालें अपराधकर्मियों पर सीसीए की धारा-3 के तहत जिला बदर/थाना हाजरी की कार्रवाई की जा रही है।

वर्ष 2016-2017 में सीसीए की धारा-3के तहत 70 से अधिक ऐसे अपराधिक तत्वों को चिह्नित कर जिला बदर/थाना हाजरी की कार्रवाई की गई है। इसमे पूर्व में पकड़े गये शातिर अपराधकर्मी जो विभिन्नगिरोहों से संबंधित है सीसीए की धारा-12 से निरूद्ध किया जाता है। वर्ष 2017 में ऐसे 14 (चौदह) शातिर अपराधकर्मियों को सीसीए की धारा-12 के तहत निरूद्ध किया गया है।

 शहर को भयमुक्त वातावरण देने के लिए इन अपराधी गिरोहो के सक्रिय सदस्यों के विरुद्ध दर्ज कांडों को साक्ष्य के आधार पर त्वरित विचारण भी हम प्रारंभ कर रहें हैं।अपराधियों द्वारा अवैध तरीके से अर्जित की गयी संपत्ति को पीएमएलए तथा यूएपीए एक्ट की सुसंगत धाराओं में जब्त करने की कार्रवाई भी की जा रही हैं। 

शांति समिति का हुआ गठन

जिला में सांप्रदायिक सौहार्द बनाये रखने के लिए विभिन्न थाना क्षेत्रों में शांति समिति का पुनर्गठन किया गया है। सभी धर्मों के प्रमुख पर्व-त्योहारों से पूर्व शान्ति समिति की बैठक आयोजित की जाती है। सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे वाले शरारती तत्वों, जिन पर पूर्व के कांड अथवा धारा-107 सीआरपीसी के तहत कार्रवाई की गयी है। उनपर विशेष निगरानी रखी जाती है।

पूर्व में सांप्रदायिक हिंसा के जो कांड प्रतिवेदित हुए है उनमें गिरफ्तार अभियुक्तों को सजा दिलाने के लिए त्वारित विचारण भी प्रारंभ किया गया है। हम सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे वालों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करने हेतु कृत संकल्पित हैं।

पुलिस आपके द्वार कार्यक्रम: कम्युनिटी ओरिएंटेड पुलिसिंग सर्विसेज संबंधित सामुदायिक पुलिस सेवा कार्यक्रम वर्तमान महानिदेशक सह पुलिस महानिरीक्षक, झारखण्ड, रांची के प्रयासों से शुरू की गई एवं यह महत्वाकांक्षी योजना है। इस कार्यक्रम के द्वारा पुलिस और आमजनों के बीच की खाई को पाटने का प्रयास किया जा रहा है।

महिला सुरक्षा के लिए कई पहल
रांची शहर में महिलाएं सब तरह से सुरक्षित हो, इसके लिए भी झारखंड पुलिस ने कई पहल किये हैं। कोई भी महिला इनसे संबंधित अपराध की शिकायत सीधे महिला थाना जाकर कर सकती है। उन्हें संबंधित थाना क्षेत्र के थाना में जाने की आवश्यकता नहीं है। महिला थाना में महिला पदाधिकारी ही थाना प्रभारी होती हैं।

शक्ति कमांडो : रांची शहर में महिलाओं/छात्राओं की सुरक्षा के दृष्टिकोण से स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, छात्रावास एवं अन्य संवेदनशील स्थानों के आसपास मनलचे/आवारा/असमाजिक तत्वों पर नजर रखने के लिए महिला पुलिसकर्मियों की शक्ति कमांडो की टीम का गठन किया गया है। प्रत्येक शक्ति कमांडो में एक महिला पदाधिकारी एवं 03 महिला आरक्षी की प्रतिनियुक्ति स्कूटी के साथ की गई है।

एंटी रोमियो स्क्वॉड : महिलाओं की सुरक्षा के लिए हमने एंटी रोमियो स्क्वॉड का भी गठन किया है। रांची जिला के स्कूल, कॉलेज, सार्वजनिक पार्क, खुला मैदान, कोचिंग संस्थान, बाजार इत्यादि क्षेत्रों में महिलाओं/छात्राओं के साथ छेडख़ानी पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से शहर में निगरानी हेतु वे प्रतिनियुक्त रहते हैं।

सुचारू ट्रैफिक व्यवस्था के लिए भी उठाये कदम
भ्रष्टाचार मुक्त सुचारू ट्रैफिक व्यवस्था स्थापित करने के लिए यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों को स्पॉट फाइन नहीं जमा कर नियमों के उल्लंघन करने पर संबंधित पोस्ट प्रभारी द्वारा उल्लंघनकर्ता को ई-चालान निर्गत किये जाने का प्रावधान किया गया है, जिसमें राशि जमा करने की अवधि 7 दिन होती है। फाइन की राशि एसपी ऑफिस या यातायात थानों में जाकर अथवा ऑनलाइन भी जमा कर सकते हैं।

यदि एक व्यक्ति द्वारा बार-बार यातायात नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो लाइसेंस निलंबित करने की कार्रवाई की जाती है। अत: रांची वासियों से अनुरोध है कि यातायात नियमों का पालन करें तथा सुगम यातायात व्यवस्था बनानें में पुलिस को सहयोग करें। इसे सुधारने से संबंधित सुझाव भी आप रांची पुलिस को दे सकते हैं।

- अनीश गुप्ता
(रांची के एसएसपी हैं)

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी

By Krishan Kumar