हंटरगंज (चतरा), [अमरेंद्र प्रताप सिंह]। चतरा जिले के वशिष्ठनगर थाना क्षेत्र के लेढ़ो में जीतन भुइयां ने अपने चचेरे पोते सूरज और अपनी दो वर्ष की बेटी को मार डाला। मंगलवार शाम सूरज का शव कुएं से मिला था। बुधवार सुबह बेटी मुनिया का शव घर से बरामद हुआ। वह सूरज को मारने के बाद उसके स्वजन को फंसाना चाहता था, इसलिए बेटी की हत्या कर दी। आरोप है कि सूरज की मां (जीतन की बहू) व अपनी किशोर बेटी पर जीतन बुरी नजर रखता था।

गोविंद भुइयां का चार वर्षीय पुत्र सूरज पांच दिन पूर्व लापता हो गया था। खोजबीन के बाद भी उसका कुछ पता नहीं चला। मंगलवार को गांव के एक कुआं से काफी दुर्गंध फैलने पर लोगों को शक हुआ। कांटा डाल कर तलाशी ली गई तो प्लास्टिक की बोरी में बच्चे का शव मिला। उसके शरीर पर कई जख्म मिले। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए चतरा सदर अस्पताल भेज दिया। गोविंद भुइयां ने चाचा (मृतक का चचेरा दादा) जीतन भुइयां पर संदेह जताया तो पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया।

पुलिस के समक्ष उसने स्वीकार किया कि रंजिश के कारण घटना को अंजाम दिया था। उसने पुलिस को बताया कि सूरज ने उसकी बेटी को पीटा था, इसलिए उसकी हत्या कर दी और शव कुएं में डाल दिया। इस बीच पता चला कि आरोपित जीतन भुइयां की एक दो साल की बेटी भी गायब है। जब पुलिस ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसकी भी हत्या करने की बात उसने स्वीकार कर ली। उसकी निशानदेही पर उसके घर से पुलिस ने बच्ची का शव बरामद किया।

उस शव को भी पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आरोपित के अनुसार, अपनी बेटी को मार कर वह गोविंद को फंसाना और खुद को बचाना चाह रहा था। उधर, मृतक सूरज की मां मालो देवी ने बताया कि आरोपित उस पर बुरी नजर रखता था। कई बार उसे अकेली पाकर घर में घुस गया था। विरोध के कारण वह अपने मंसूबे में सफल नहीं हो पाया था। इससे वह बौखलाया हुआ था।

उसने बात नहीं मानने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। यह भी आरोप है कि वह अपनी एक बेटी पर भी बुरी नजर रखता था। विरोध करने पर कई बार उसकी पिटाई की थी। उधर, थानेदार सुनील कुमार सिंह ने कहा कि मामले की छानबीन की जा रही है। प्रथम दृश्‍टया आरोपित सनकी व मानसिक रूप से असंतुलित लगता है। उसने रंजिश में वारदात को अंजाम दिया है। आरोपित को फिलहाल जेल भेज दिया गया है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman