रांची, राज्य ब्यूरो। Mahagathbandhan Jharkhand सत्ता पक्ष के विधायकों ने आंदोलनकारियों को सम्मान देने के राज्य कैबिनेट के निर्णय पर खुशी का इजहार किया है। विधायकों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को इसके लिए खास तौर पर धन्यवाद दिया है। मुख्यमंत्री आवास में सत्तारूढ़ विधायकों की बैठक में सभी ने एक स्वर में राज्य सरकार के फैसले का स्वागत किया। विधायकों ने कहा कि यह आवश्यक था। अबतक की सरकारों ने आंदोलनकारियों की अनदेखी की है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य आंदोलनकारियों की बदौलत बना है और उनके सम्मानित करने का निर्णय गौरव का क्षण है। आंदोलनकारियों के परिजनों को नौकरियों में पद आरक्षण का फैसला करना बेहतर कदम है। बैठक में विधानसभा के बजट सत्र को लेकर रणनीति बनी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पूर्व में ही कह चुके हैं कि बजट सत्र के दौरान सरकार सभी प्रश्नों का स्पष्ट जवाब देगी।

बैठक में सत्ता पक्ष के विधायकों को ताकीद की गई कि वे बजट सत्र के दौरान सदन में अधिकाधिक उपस्थिति दर्ज कराएं। बैठक के दौरान कुछ विधायकों ने बिजली विभाग द्वारा की जा रही वसूली और जुर्माने पर आपत्ति जताई। कुछ विधायकों ने क्षेत्रीय समस्याओं का भी जिक्र करते हुए निदान का आग्रह किया। बैठक में कहा गया कि सरकार अब बेहतर प्रदर्शन की दिशा में आगे बढ़ेगी।

कोविड काल में सरकार ने बेहतरीन प्रबंधन कर दिखाया है। बजट में कल्याणकारी योजनाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। बैठक में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, मंत्री आलमगीर आलम, चंपई सोरेन, सत्यानंद भोक्ता, मिथिलेश कुमार ठाकुर, रामेश्वर उरांव, बादल, जोबा मांझी, विधायक स्टीफन मरांडी, बसंत सोरेन, प्रदीप यादव, डा. इरफान अंसारी, समीर महंती, चमरा लिंडा, दीपक बिरूआ, मथुरा प्रसाद महतो, सविता महतो, पूर्णिमा नीरज सिंह, रामचंद्र सिंह, सरफराज अहमद, बंधु तिर्की, विकास मुंडा, नमन विक्सल कोनगाड़ी, उमाशंकर अकेला, विनोद कुमार सिंह, अंबा प्रसाद, दीपिका पांडेय सिंह, कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह, सहित अन्य विधायक मौजूद थे।

भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं, बाबूलाल फिर लें जनादेश : इरफान 

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष सह जामताड़ा विधायक डा. इरफान अंसारी ने दावा किया है कि भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है। बजट सत्र में संभावित मुद्दों को इंगित करते हुए उन्होंने कहा कि दरअसल भाजपा को राज्य की कोई चिंता नहीं है। ये लोग सिर्फ हो-हल्ला करने के लिए विधानसभा आएंगे। इनके पास एकमात्र मुद्दा नेता प्रतिपक्ष की मान्यता का है। यह प्रकरण स्पीकर के न्यायाधिकरण में है। उन्होंने कहा कि बाबूलाल मरांडी को किसी हाल में नेता प्रतिपक्ष की मान्यता नहीं देनी चाहिए।

बजट सत्र को लेकर बोले विधायक डा. इरफान अंसारी, इन्हें सिर्फ नेता प्रतिपक्ष चाहिए

उन्होंने झारखंड की जनता को धोखा देने का काम किया है। वे सेकुलर वोट लेकर चुनाव जीते और भाजपा के गोद में चले गए। यह राजनीति की सही परिपाटी नहीं है। बाबूलाल अगर नेता प्रतिपक्ष बनना चाहते हैं तो उन्हें फिर से जनादेश लेना चाहिए। बजट सत्र को लेकर सत्ता पक्ष पूरी तरह तैयार है। विपक्ष के आरोपों का माकूल जवाब दिया जाएगा। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार बेहतर तरीके से काम कर रही है। कोविड-19 के कारण भी विकास की गति धीमी नहीं हुई। अब यह रफ्तार पकड़ चुका है। भाजपा के पास विकास को लेकर कोई मुद्दा नहीं है। ये लोग अभी तक अपना नेता नहीं बना पाए हैं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021