रांची, जेएनएन। CAA Support  हिंसाग्रस्‍त लोहरदगा में कर्फ्यू हटते ही जरूरी सामानों के लिए मारामारी मची है। सोमवार को प्रशासन की ओर से दो घंटों के लिए कर्फ्यू में ढील दिए जाने के बाद दवा दुकानों पर सर्वाधिक भीड़ देखी गई। लोग अपनी जरूरत के सामान खरीदने के लिए दुकानों पर जमे हैं। पुलिस भी पूरी मुस्‍तैदी से लोगों और भीड़-भाड़ को संभालने में जुटी है। आइजी नवीन कुमार सिंह के मुताबिक हिंसा के मामले में अब तक 100 लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है।

लोहरदगा में दवा दुकान के सामने लगी भीड़।

बीते 23 जनवरी को लोहरदगा में सीएए के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया था। हालांकि इससे पहले गणतंत्र दिवस को देखते हुए रविवार, 26 जनवरी को भी कर्फ्यू में मामूली ढील दी गई थी। सोमवार, 27 जनवरी को सभी इलाकों में दो घंटे तक के लिए कर्फ्यू हटाया गया है। सुबह साढ़े दस बजे से बारह बजे तक यहां दुकानें खोली गई हैं, ताकि लोग अपनी जरूरत का सामान खरीद सकें।

लोहरदगा में कर्फ्यू हटते ही अपनी जरूरत का सामान लेने के लिए बड़ी संख्‍या में लोग दुकानों पर पहुंचे हैं।

इधर सोमवार को कर्फ्यू हटते ही बड़ी संख्‍या में लोग सड़कों पर निकल आए हैं। इन्‍हें संभालने में सुरक्षा बलों को कड़ी मशक्‍कत करनी पड़ रही है। सड़कों पर इस दौरान वाहनों की संख्‍या भी बढ़ी हुई दिखी। हिंसा फैलने के बाद जहां-तहां खड़े बॉक्‍साइट लदे ट्रक भी कर्फ्यू हटते ही अपने गंतव्‍य के लिए रवाना हो गए। यहां ड्रोन कैमरे से भी मोहल्‍लों में नजर रखी जा रही है। सुरक्षा बल हर चौक-चौराहे पर मुस्‍तैद हैं।

कर्फ्यू हटने के बाद ड्रोन से पूरे इलाके पर नजर रखी जा रही है।

लोहरदगा में कर्फ्यू हटने के बाद सड़कों पर वाहनों की संख्‍या भी अचानक काफी बढ़ गई।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस