रांची, जासं। Jharkhand Weather News रांची सिविल कोर्ट में कुछ पेड़ गिर गए हैं, जिसकी चपेट में आने से वाहन क्षतिग्रस्त हो गए हैं। हालांकि इस दौरान किसी को चोट लगने की सूचना नहीं है। बार एसोसिएशन के महासचिव संजय कुमार विद्रोही ने बताया कि सिविल कोर्ट परिसर में रात में ही एक बड़ा पेड़ गिरा था। जिससे बड़ा हादसा होने से टल गया है। तेज हवा के चलते भी कुछ जर्जर पेड़ अभी गिरा है। इसकी चपेट में कुछ वाहन गए हैं।

उनकी ओर से बताया गया कि वकीलों को यह सलाह दी गई है कि वे पेड़ के नीचे अपने वाहन ना लगाएं। इसके अलावा परिसर में जर्जर पेड़ों के बारे में सिविल कोर्ट के रजिस्ट्रार को सूचना दे दी है। ताकि समय रहते उन्हें हटा लिया जाए। बता दें कि लगातार बारिश और तेज हवा के चलते कई जगहों पर पेड़ गिरने की सूचना मिल रही है।

रांची सुविधा मार्ट के पास पेड़ गिरने की वजह से सड़क जाम

राजधानी रांची के सुविधा मार्ट के पास पेड़ गिरने की वजह से सड़क जाम हो गया। जिसके बाद लोगों को आवाजाही में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। रांची के कई इलाकों में पेड़ गिरने की वजह से आवाजाही में लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

कई इलाकों में बिजली गुल

झारखंड की राजधानी रांची में लगातार तेज आंधी तुफान से जन जीवन अस्त व्यस्त है। मोरहाबादी इलाके में सुबह से ही बिजली नही है। एहतियातन बिजली काट दी गई है। इस कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आज सुबह से बिजली नहीं होने से लोग अपने घरों का मोटर नहीं चला सके। इससे नहाने धोने से लेकर पीने के पानी की भी किल्लत हो गई है। लोग कैसे ऑफिस जाये और कैसे अपना काम काज निपटाए समझ नहीं आ रहा।

स्थानीय लोग बार बार बिजली विभाग से सम्पर्क कर रहें। विभागीय अधिकारी द्वारा बताया जा रहा कि आंधी तुफान में बिजली देना खतरनाक होगा। इधर, बारिश है कि रुकने का नाम नहीं ले रहा। मुसलाधार बारिश हो रही है। राजधानी के निचले इलाके में सड़को पर पानी की रेत बह रही है। लोग अपने अपने घरों में दुबके हुए हैं।

गुमला में लगातार हो रही वर्षा से जन जीवन प्रभावित

गुमला में बीती रात से लगातार हो रही वर्षा से जान जीवन हुआ प्रभावित। घरों में दुबके लोग। शहर के कई सड़को पर जलजमाव होने से लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही है। मुख्य रूप डीएसपी रोड पर एक फिट पानी का जमाव हो गया। लोगों को दूसरा रोड से होकर आवगमन करना पड़ रहा है। शहर के इस्लाम नगर में लोगों के घरों में पानी घुसने से लोग काफी परेशान हैं।

वर्षा से शहर के नाली का कचरा सड़क पर आ गया है। शहर में स्वच्छता अभियान की पोल खोल दी है। शहर के किनारे से होकर गुजरने वाली नदी उफान पर है। इस नदी का पानी भी कई घरों में प्रवेश कर गया है। खेत भी लबालब पानी से भर गया है।

वर्षा के कारण स्कूलों में बच्चों की कम उपस्थिति रही। सड़कों पर भी सन्नाटा छाया रहा। वर्षा के कारण बीती रात से बिजली आपूर्ती बाधित है । इसे लेकर लोग काफी परेशान है। विभाग के अनुसार वर्षा से कई जगह फॉल्ट होने के कारण बिजली बाधित हैं। इधर प्रखंडों में वर्षा के कारण पेड़ गिरने से घर ध्वस्त हुआ है। कोयल नदी का जल स्तर ऊपर आ गया है। अन्य नदियों का जल भी उफान पर है।

कोडरमा में भारी बारिश से जल स्रोतों में आई जान, जलजमाव से आमलोग परेशान

पूरे कोडरमा जिले में 2 दिनों से हो रही वर्षा से जहां सूख रहे जल स्रोतों में जान आ गई है, वहीं दूसरी ओर खेतों में भी पानी भर गया है। वैसे इस बार मानसून के शुरुआती 2 महीने वर्षा नहीं होने के कारण धान की रोपाई 40 से 50 फीसद तक ही हुई है। वहीं अगस्त माह में हो रही यह वर्षा खेतों में लगी फसल के लिए अच्छा माना जा रहा है।

दूसरी ओर वर्षा के बाद शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में सूख रहे कुएं, तालाब व अन्य जल स्रोतों में जान आ गई है। शुक्रवार रात हुई अच्छी वर्षा के बाद नदियों में उफान है। दो दिनों में करीब 60 मिलीमीटर से अधिक वर्षा का अनुमान है। सतगावां, मरकच्चो, जयनगर प्रखंड में शुक्रवार की संध्या हुए मूसलाधार वर्षा से किसानों के चेहरे पर खुशी का माहौल देखा गया। सावन के महीने में सतगावां में वर्षा के लिए तरसे किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीर भादो के इस मौसम में हट गई है।

ज्ञात हो कि किसानों ने मोटर पंप आदि लगाकर किसी तरह खेतों में पानी कर धान का बिचड़ा रोपे हैं, जो वर्षा नहीं होने के कारण मरने के कगार पर थे, लेकिन शुक्रवार की संध्या बारिश ने मरते हुए धान के पौधे में जान ला दी है। उम्मीद जताई जा रही है कि इस तरह की बारिश 2 से 4 दिन तक हो गई तो रोपे गए धान की अच्छी उपज होने का आशंका बढ़ जाएगी।

इधर, शहरी इलाके में बारिश के बाद सड़कों पर जलजमाव हो गया है। कोडरमा स्टेशन के समीप रांची-पटना रोड व महाराणा प्रताप चौक के समीप सड़क पर पानी का जमाव हो गया है। इससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है।

विस्तृत खबर... यह खबर लगातार अपडेट हो रही है।

Edited By: Sanjay Kumar