लोहरदगा, जासं। Jharkhand Crime News झारखंड के लोहरदगा जिले के सेन्हा थाना क्षेत्र में विवाह का प्रलोभन देकर नाबालिग के साथ पांच सालों तक दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया है। इस वारदात को लेकर पीड़िता ने सेन्हा थाने में आरोपित के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई है। जिसके बाद सेन्हा थाना पुलिस मामले की अनुसंधान के साथ आगे की जांच और कार्रवाई में जुट गई है।

बताया जाता है कि लोहरदगा जिले के सेन्हा थाना क्षेत्र की रहने वाली नाबालिग ने सेन्हा थाना पुलिस को प्राथमिकी दर्ज के लिए दिए आवेदन में स्पष्ट किया है कि तीन फरवरी 2017 को सेन्हा थाना क्षेत्र के घाटा गांव निवासी केशो उरांव के पुत्र अमृत उरांव ने हथियार का भय दिखाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। जब वह रोने लगी तो अमृत ने कहा कि किसी को मत बताना हम तुमसे शादी कर लेंगे। लोक-लज्जा के कारण उसने इसकी जानकारी किसी को नहीं दी और न ही प्राथमिकी दर्ज कराई।

इस घटना के बाद अमृत उरांव हर 15 दिन या एक महीना के अंतराल में जबरन उसके साथ शारीरिक संबंध बनाता रहा। दुष्कर्म के कारण वह गर्भवती हो गई तो अमृत ने जबरन दवा खिलाकर उसका गर्भपात करा दिया। इस बीच जब शादी करने के लिए नाबालिग कहती थी तो अमृत कहता था कमाने लगेंगे तो घर वालों को समझा-बुझाकर शादी कर लेंगे, लेकिन अभी तक शादी भी नहीं किया। अब अमृत उरांव दूसरी लड़की के साथ विवाह करने जा रहा है। नाबालिग ने यह भी स्पष्ट किया है कि अमृत पहले से भी एक लड़की से अवैध संबंध रखे हुए हैं। जिससे उसका दो साल का एक बच्चा भी है।

नाबालिग के आवेदन पर सेन्हा थाना पुलिस ने भादवि की धारा 376, 313, 354 एवं 4/6 पोक्सो एक्ट के तहत सेन्हा थाना कांड संख्या 60/22 में प्राथमिकी दर्ज कर ली है। साथ ही इस गंभी मामले में सेन्हा थाना पुलिस जांच के साथ आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

Edited By: Sanjay Kumar