Move to Jagran APP

IAS Pooja Singhal: आइएएस पूजा सिंघल के ठिकानों पर ED की छापेमारी आज भी जारी, CBI दर्ज करेगी केस

Jharkhand IAS Pooja Singhal झारखंड के वरिष्ठ आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के ठिकानों पर ईडी की छापेमारी आज भी जारी है। मिली जानकारी के अनुसार ईडी ने सीबीआई को केस दर्ज करने के लिए पत्र लिखा है। अब इस मामले में सीबीआई केस दर्ज कर सकती है।

By Sanjay KumarEdited By: Published: Sat, 07 May 2022 01:50 PM (IST)Updated: Sat, 07 May 2022 02:04 PM (IST)
Jharkhand IAS Pooja Singhal: आइएएस पूजा सिंघल के ठिकानों पर ED की छापेमारी आज भी जारी

रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand IAS Pooja Singhal झारखंड के वरिष्ठ आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल व उनके सहयोगियों से जुड़े पांच राज्यों के 25 ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई की। पूजा सिंघल के ठिकानों पर ईडी की छापेमारी आज भी जारी है। ईडी छापेमारी के लिए रांची के पल्स अस्पताल पहुंची है। मिली जानकारी के अनुसार ईडी ने सीबीआई को केस दर्ज करने के लिए पत्र लिखा है। अब इस मामले में सीबीआई केस दर्ज कर सकती है।

loksabha election banner

पल्स अस्पताल के निजी सुरक्षा गार्ड मीडिया कर्मियों को धमका रहा है। इसको लेकर मीडिया कर्मी और निजी सुरक्षा गार्ड के बीच नोकझोक भी हुई है।

देखिए पल्स अस्पताल में कैसे मीडिया कर्मियों को धमका रहा निजी सुरक्षा गार्ड...

बता दें कि पूजा वर्तमान में झारखंड सरकार की खान एवं उद्योग विभाग की सचिव हैं। ईडी सूत्रों के अनुसार इस छापेमारी में शुक्रवार की शाम तक 19.31 करोड़ रुपये नकदी समेत लगभग 150 करोड़ रुपये की बेहिसाब संपत्ति से संबंधित महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले हैं, इनकी जांच की जा रही है। सीआरपीएफ की टीम कल रात कड़ी सुरक्षा के बीच एक बस में कई ट्रंक लादकर ले गए।

वैसे तो ईडी की टीम ने मनरेगा घोटाला की जांच के संदर्भ में छापेमारी की, लेकिन अब वह पूजा के पूरे कार्यकाल की जांच कर रही है। खासकर खनन मामलों की। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उनके भाई बसंत सोरेन खनन पट्टा को लेकर ही विवादों में हैं। मनरेगा घोटाले के वक्त पूजा खूंटी की उपायुक्त थीं। 

सभी 25 ठिकानों पर शुक्रवार की सुबह करीब सात बजे एक साथ ईडी ने छापेमारी शुरू की। ये ठिकाने झारखंड के रांची, राजस्थान के जयपुर, बंगाल के कोलकाता, बिहार के मुजफ्फरपुर व दिल्ली एनसीआर में थे। रांची में कांके रोड के चांदनी चौक स्थित पंचवटी रेजिडेंसी के फ्लैट नंबर 904, लालपुर के हरिओम टावर स्थित नई बिल्डिंग, बरियातू के पल्स अस्पताल, पूजा सिंघल के सरकारी आवास, उनके पति अभिषेक झा के आवास में भी छापेमारी हुई। इसके अलावा राजस्थान के जयपुर में सहयोगी आरके जैन, कोलकाता में तत्कालीन एंट्री आपरेटर, दिल्ली में पूजा सिंघल के भाई, उनके चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार के यहां भी दबिश दी गई। बिहार के मुजफ्फरपुर में पूजा सिंघल की ससुराल है, वहां भी ईडी ने तलाशी ली है। पूजा सिंघल के चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन सिंह के चार फ्लैट और ओरमांझी में डेयरी फार्म से संबंधित दस्तावेज ईडी को मिले हैं। सुमन सिंह के भाई पवन सिंह को ईडी ने हिरासत में लिया है।

पूजा सिंघल के 20 ठिकानों पर ED की छापेमारी, घर में मिला खजाना VIDEO...

खूंटी में हुआ था 18 करोड़ का घोटाला

ईडी ने मनरेगा घोटाले के एक मामले में झारखंड उच्च न्यायालय के आदेश पर पूरे मामले की जानकारी से संबंधित शपथ पत्र दाखिल किया था। ईडी ने शपथ पत्र के माध्यम से कोर्ट को बताया था कि झारखंड के खूंटी जिले में मनरेगा में 18.06 करोड़ रुपये के घोटाले के वक्त वहां की उपायुक्त पूजा सिंघल थीं। इस मामले में वहां के कनीय अभियंता राम विनोद प्रसाद सिन्हा गिरफ्तार कर जेल भेजे गए थे, जिन्होंने ईडी को दिए अपने बयान में यह स्वीकार किया था कि कमीशन की राशि उपायुक्त कार्यालय तक पहुंचती थी। ईडी ने शपथ पत्र में चतरा और पलामू का भी जिक्र किया था। बताया था कि पूजा सिंघल चतरा जिले में अगस्त 2007 से जून 2008 तक उपायुक्त के पद पर तैनात थीं। आरोप है कि उन्होंने दो एनजीओ को मनरेगा के तहत छह करोड़ रुपये का अग्रिम भुगतान किया था। उक्त राशि मूसली की खेती के लिए आवंटित की गई थी, जबकि इस तरह का कोई कार्य वहां नहीं हुआ था, जिसकी जांच अभी जारी है। इसके अलावा पलामू जिला में उपायुक्त रहते हुए पूजा सिंघल पर यह आरोप है कि उन्होंने करीब 83 एकड़ जंगल भूमि को निजी कंपनी को खनन के लिए ट्रांसफर किया था। यह कठौतिया कोल माइंस से जुड़ा मामला है। ईडी ने कोर्ट को बताया था कि इस मामले की भी जांच जारी है।

सीए ने कहा, मेरा पैसा लेकिन यह नहीं बता पाए कहां से आया

आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के सीए सुमन सिंह का दावा है कि उनके यहां से जो नकदी मिली है वह उन्हीं की है। ईडी ने सुबह करीब सात बजे उनके बूटी मोड़, हनुमान मंदिर स्थित आवास पर दबिश देकर 19.31 करोड़ रुपये बरामद किए। छापेमारी के दौरान अद्र्धसैनिक बलों के जवान भी मौजूद थे। सुमन से यह पूछे जाने पर कि इतनी नकदी उनके पास कहां से आई, जबकि भारत सरकार का नियम है कि अधिक नकद नहीं रख सकते। सुमन ने कहा कि नकदी एक सप्ताह पहले ही उनके पास आई थी। अभी तक आयकर में इसका उल्लेख नहीं किया है। इसका वे एसेसमेंट करेंगे। सीए इस बात का जवाब नहीं दे पाए कि आखिरकार इतनी अधिक नकदी उनके पास कहां से आई?

यह गीदड़ भभकी है, हम अपवाद नहीं हैं : हेमंत सोरेन

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी को गीदड़ भभकी बताया है। उन्होंने कहा कि हम अपवाद नहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा राजनीतिक लड़ाई के मैदान में नहीं जीत पाती है तो अपनी मशीनरी का 'सदुपयोग' करके उसे लगता है कि वह पार पा लेगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि ऐसा है नहीं और न ही होगा। प्रोजेक्ट भवन में शुक्रवार को चुनाव आयोग की त्वरित कार्रवाई से जुड़े मीडिया के सवालों पर उन्होंने कहा कि यह आयोग से ही पूछना बेहतर होगा लेकिन देश में कानून है, संविधान है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.