रांची, राज्य ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के ओरैया में हुए सड़क हादसे में मारे गए प्रवासी मजदूरों के परिजनों को राज्य सरकार ने मुआवजा देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बताया कि मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये दिए जाएंगे। बोकारो जिला प्रशासन सभी घायलों के इलाज की भी व्यवस्था करेगा। उधर सीएम हेमंत ने सड़क हादसे में मृत श्रमिकों के शव ट्रक के जरिए भेजने को अमानवीयता और संवेदनहीनता की पराकाष्ठा कहा है।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर उत्तर प्रदेश और बिहार के मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि मृत प्रवासी श्रमिकों और घायलों को झारखंड की सीमा तक परिवहन की बेहतर व्यवस्था करे। दरअसल मुख्यमंत्री को विभिन्न माध्यमों से यह जानकारी मिली थी कि ओरैया हादसे में मरने वाले प्रवासी श्रमिकों के शवों को ट्रक के जरिए बोकारो के चास स्थित घर भेजा जा रहा है। हादसे में बचे लोगों का कहना है कि बर्फ की सिल्लियां पिघलने से शव की स्थिति बिगड़ती जा रही है।

उधर हेमंत के ट्वीट के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने इसपर संज्ञान लिया और इलाहाबाद में शवों को एंबुलेंस पर रखवाकर रवाना किया। इससे पहले औरेया से शवों को ट्रक पर लादकर भेज दिया गया था। उस ट्रक पर घायल व अन्य मजदूर भी सवार थे। इधर हेमंत के ट्वीट के बाद रेस हुए बोकारो जिला प्रशासन ने भी हजारीबाग के शवों को रिसीव करने चौपारण के पास स्थित झारखंड की सीमा तक 12 एंबुलेंस भेजे।

माना जा रहा है कि सोमवार सुबह तक शव बोकारो पहुंच जाएंगे। ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश के औरेया में शनिवार को ट्रक और डीसीएम की टक्कर में ट्रक पर सवार 26 मजदूरों की मौत हो गई थी। इनमें बोकारो के भी 11 मजदूर शामिल थे। बोकारो के दो मजदूरों समेत 42 मजदूर इस हादसे में घायल भी हुए हैं।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस