लातेहार, जागरण संवाददाता। बिजली बिल बकायेदारों से वसूली करने गए झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के जूनियर इंजीनियर समेत अन्य कर्मचारियों पर शुक्रवार को लोगों ने जानलेवा हमला कर दिया। इस हमले में जूनियर इंजीनियर वीरेंद्र कुमार चौधरी बुरी तरह घायल हो गए हैं। उनके दोनों हाथ टूट गए हैं। शरीर पर कई जगह पर गहरे जख्म हैं। उनका इलाज एक अस्पताल में चल रहा है।

ग्रामीणों के हमले के बाद स्थिति बिगड़ी

मामला लातेहार जिले के छिपोदोहर थाने के कुचिला गांव का है। ग्रामीणों के हमले के बाद स्थिति इतनी विकट हो गई कि एक अन्य अभियंता जान बचाकर भाग खड़े हुए। इस घटना के बाद वहां के इंजीनियरों एवं झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) के कर्मचारियों ने कामकाज ठप कर दिया है। कर्मचारियों ने राज्य सरकार से सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराने की मांग की है।

कर्मचारियों ने की पर्याप्त सुरक्षा की मांग

कर्मचारियों ने कहा कि अगर उन्हें पर्याप्त सुरक्षा नहीं उपलब्ध नहीं कराई जाती है, तो वे काम नहीं करेंगे। इतना ही नहीं सभी कर्मचारी हड़ताल पर चले जाएंगे। कर्मचारियों ने कहा कि जिस बर्बरता के साथ ग्रामीणों ने टीम पर हमला किया है, यह दर्शाता है कि कानून का राज नहीं है। अपराधियों का बोलबाला है।

बिजली बकायेदारों के खिलाफ अभियान

मालूम हो कि झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) द्वारा शहरी क्षेत्र में 10 हजार रुपये और 5 हजार रुपए बिजली बिल बकाएदारों के विरूद्ध अभियान चलाया जा रहा है। बकाया वसूलने के लिए कर्मचारियों और इंजीनियरों पर झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) प्रबंधन का भारी दबाव है।

मामले की जांच शुरु

उधर, छिपादोहर थाना के थानेदार विश्वजीत तिवारी ने कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है। जूनियर इंजीनियर ( जेई ) से साथ मारपीट करने वाले लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। दोषियों को किसी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस जल्द ही सभी हमलावरों को गिरफ्तार कर लेगी।

Edited By: Madhukar Kumar