रांची, राज्य ब्यूरो। राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम की झारखंड की राजनीति से भले ही फिलहाल कोई डोर जुड़ती न दिखाई देती हो, लेकिन कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी जरूर इस पूरे प्रकरण के माध्यम से सहानुभूति बटोरने का पूरा प्रयास कर रहे हैं। उनके ट्वीट और री-ट्वीट से यह स्पष्ट हो रहा है। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट किया कि झूठ, चापलूस, दलाली कर तो मैं भी कब का दरिया पार कर जाता, लेकिन डुबो दिया मुझे सच बोलने की आदत ने। वहीं, बुधवार को उनकी सहानुभूति में जब एक ट्वीट हुआ तो उन्होंने इसे री-ट्वीट किया।

इसमें लिखा था कि, आपका दर्द वाजिब है, जो एमपी या राजस्थान में हुआ है वो सबूत झारखंड दिख जाएगा। क्या कांग्रेस का दिन-रात झंडा ढोने वाले मुखर, शिक्षित, एमबीबीएस की डिग्री मंत्री पद के लिए काफी नहीं। मैट्रिक फेल होना जरूरी है। यही प्रॉब्लम है कांग्रेस की। वक्त के साथ बदलिए। इरफान के इस री-ट्वीट की सत्ता के गलियारों में खासी चर्चा है।

भाजपा ने भी इस पर चुटकी ली है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि इरफान अंसारी का यह री- ट्वीट बहुत कुछ कहा गया। आगे कुछ लिखने की जरूरत नहीं। सही लिखा है, मैट्रिक फेल को मलाईदार पोस्ट और हमारी यूक्रेन के एमबीबीएस पास माननीय को कुछ नहीं।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस