रांची, [संजीव रंजन]। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी का फैसला किया है। जेएससीए स्टेडियम में शनिवार को सीरीज के तीसरे व अंतिम टेस्ट मैच में टीम इंडिया क्लीन स्वीप के इरादे से उतर रही है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2-0 से सीरीज में अजेय बढ़त हासिल कर चुकी भारतीय टीम रांची में भी कोई ढील देने के मूड में नहीं है। विराट कोहली ने शुक्रवार को जिस तरह अभ्यास कर खिलाडिय़ों के साथ बातचीत की उससे यह स्पष्ट हो गया है कि भारतीय कप्तान जीत से कम कुछ नहीं चाहते।

सीरीज के लिए यह टेस्ट भले ही औपचारिक लग रहा है लेकिन इसमें विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिए महत्वपूर्ण अंक दांव पर लगे होंगे।  इसलिए विराट कोहली की टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस अंतिम मैच में भी किसी तरह की कसर नहीं छोड़ेगी। इस मैच में जीत दर्ज करने वाली टीम को 40 अंक मिलेंगे। विश्व चैंपियनशिप में भारत के अभी 4 मैचों में 200 अंक हैं और उसने अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी न्यूजीलैंड और श्रीलंका पर 140 अंकों की बड़ी बढ़त बना रखी है। कोहली पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि अंतिम टेस्ट मैच में भी काफी कुछ दांव पर लगा है और उनकी टीम किसी भी तरह से ढिलाई नहीं बरतेगी। 

कुलदीप को मिल सकता है मौका

पिच को देखने के बाद यह तय हो गया है कि दोनों टीमों में स्पिनर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। ऐसे में माना जा रहा है कि भारतीय टीम में एक परिवर्तन देखने को मिल सकता है और कुलदीय यादव अंतिम ग्यारह में शामिल हो सकते हैं। कुलदीप किसके स्थान पर टीम में आएंगे इसका फैसला कप्तान को करना आसान नहीं होगा। सीरीज में भारतीय गेंदबाजों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। विशेषकर अश्विन व जडेजा ने शानदार प्रदर्शन किया है। ऐसे में किसे टीम से बाहर रखा जाएगा इसका निर्णय लेना आसान नहीं होगा। लेकिन यहां की पिच स्पिनरों के लिए मददगार साबित होगी इसलिए भारत तीन स्पिन गेंदबाजों के साथ उतर सकता है। 

रोहित, मयंक व कोहली का खूब चला है बल्ला

सीरीज में अब तक रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल व विराट कोहली ने अच्छी बल्लेबाजी करते हुए शतक जड़ा। जबकि रवींद्र जडेजा ने मध्यक्रम में उपयोगी पारियां खेली। पहली बार भारतीय पारी का आगाज करने वाले रोहित शर्मा ने पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ा जबकि मयंक अग्रवाल ने दोनों टेस्ट में शतकीय पारी खेल यह बता दिया कि यह जोड़ी टेस्ट के लिए भारतीय पारी की शुरुआत करने के लिए सही है। रोहित ने पहले टेस्ट मैच में पहली बार पारी का आगाज करते हुए दोनों पारियों में शतक लगाए। मुंबई के इस बल्लेबाज के साथी मयंक अग्रवाल ने विशाखापत्तनम में दोहरा शतक लगाया तो पुणे में भी वह सैकड़ा जमाने में सफल रहे। पुणे में हालांकि कोहली ने 254 रन की जादुई पारी खेली जो उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी है। रोहित पुणे में नहीं चल पाए थे और वे इसकी भरपाई यहां करना चाहेंगे जबकि अब तक श्रृंखला में 2 अद्र्धशतक लगाने वाले चेतेश्वर पुजारा तिहरे अंक तक पहुंचने की कोशिश करेंगे। 

कोहली के पास स्मिथ को पछाड़ने का मौका

भारतीय कप्तान के पास एक बार फिर आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्मिथ को पछाडऩे का मौका होगा। टेस्ट रैंकिंग में स्मिथ से मात्र एक अंक से भारतीय कप्तान पीछे हैं। रांची में बड़ी पारी खेल कोहली एक बार फिर शीर्ष पर पहुंच जाएंगे। स्मिथ के 937 अंक हैं जबकि कोहली के 936 अंक हैं। वैसे भी इस सीरीज में भारतीय बल्लेबाजों का दबदबा रहा है। अब तक हुए दो टेस्ट मैचों में भारत ने केवल 16 विकेट गंवाए। मेहमान टीम के गेंदबाज भारतीय बल्लेबाजों पर दबाव बनाने में सफल नहीं रहे हैं। 

गेंदबाजों का दमदार प्रदर्शन

सीरीज में भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए मेहमान टीम को दबाव में रखा है। तेज व स्पिन गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन कर टीम की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। तीसरे टेस्ट में टॉस की भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी। पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम को लाभ मिलेगा। तीसरे दिन से पिच के टर्न लेने की संभावना है।  अब तक टॉस ने भी भारत का साथ दिया और अगर अंतिम टेस्ट मैच में सिक्का फाफ डुप्लेसिस का साथ देता है तो चीजें थोड़ा रोमांचक हो सकती हैं।

दक्षिण अफ्रीका ने पिछली बार जब भारत का दौरा किया था तो स्पिनरों ने उसका जीना मुहाल कर दिया था लेकिन इस बार तेज गेंदबाज और स्पिनर दोनों ने अहम भूमिका निभाई है। अभी यह तय नहीं है कि कोहली इस संयोजन के साथ उतरेंगे या इसमें बदलाव करेंगे। दक्षिण अफ्रीकी कप्तान डुप्लेसिस पहले ही कह चुके हैं कि रांची की पिच स्पिनरों के अनुकूल होगी और ऐसे में कुलदीप यादव के रूप में तीसरा स्पिनर भी भारतीय एकादश में जगह बना सकता है। 

दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को दिखाना होगा दम

दक्षिण अफ्रीका टीम को अगर तीसरे टेस्ट में बेहतर परिणाम चाहिए तो उसे एक टीम के रूप में बेहतर प्रदर्शन करना होगा। दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने विशाखापत्तनम में कुछ दम दिखाया था लेकिन पुणे में वे नाकाम रहे थे। केवल पुछल्ले बल्लेबाजों ने ही भारतीय गेंदबाजों को कुछ परेशान किया। डुप्लेसिस ने चोटी के बल्लेबाजों डीन एल्गर,  क्विंटन डिकाक और तेम्बा बावुमा जैसे अनुभवी बल्लेबाजों से जिम्मेदारी के साथ बल्लेबाजी करने के लिए कहा है।

वैसे एडेन मार्कराम के चोटिल होने के कारण बाहर होने से दक्षिण अफ्रीका की परेशानियां बढ़ी हैं। गेंदबाजी की बात करें तो कैगिसो रबाडा, वर्नोन फिलैंडर और एनरिच नॉर्टजे अब तक भारतीय तेज गेंदबाजों की तरह प्रभावी नहीं रहे हैं। उसके सीनियर स्पिनर केशव महाराज भी इस मैच में नहीं खेल पाएंगे और ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी आक्रमण के लिए भारतीय बल्लेबाजों को रोकना मुश्किल होगा। 

बारिश की आशंका

तीसरे टेस्ट मैच में बारिश की आशंका है। मौसम विभाग के अनुसार 20 व 21 अक्टूबर को रुक-रुक कर बारिश हो सकती है। हालांकि झारखंड राज्य क्रिकेट संघ ने कहा है कि बारिश रुकने के 15 से 20 मिनट के बाद ही खेल शुरू हो जाएगा। मैदान पर जल का जमाव नहीं होगा। 

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप