रांची, राज्य ब्यूरो। भाजपा में झाविमो के छह विधायकों और पार्टी के विलय को वैध ठहारने के विधानसभा स्पीकर के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर अगले सप्ताह सुनवाई होगी। जस्टिस राजेश शंकर की अदालत ने इस मामले में स्पीकर को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है। इस संबंध में झाविमो नेता बाबू लाल मरांडी और प्रदीप यादव ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की है।

गुरुवार को बाबूलाल मरांडी की ओर से अदालत से इस मामले की जल्द सुनवाई करने का आग्रह किया गया। अदालत को बताया गया कि यह मामला स्पीकर की कोर्ट में साढ़े चार साल तक चला। साढ़े चार साल बाद स्पीकर ने फैसला दिया है। इसलिए इस मामले की हाईकोर्ट में जल्द सुनवाई होनी चाहिए।

विधानसभा की ओर से अदालत को बताया गया कि इस मामले की जल्द सुनवाई का कोई औचित्य नहीं है। विधानसभा का चुनाव हो रहा है। ऐसे में अब इस मामले का कोई औचित्य नहीं रह गया है। इसके बाद अदालत ने विधानसभा को अपना जवाब शपथपत्र के माध्यम से दाखिल करने का निर्देश दिया। अगली सुनवाई एक सप्ताह बाद होगी।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस