जागरण संवाददाता, रांची : राज्य सरकार की बजट पर छात्रों की निगाहें टिकी हुई है। छात्रों को सरकार से उम्मीद है कि उनके हितों का ध्यान रखा जाएगा। राज्य में स्कूली शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक की हालत खस्ता है। ज्यादातर कॉलेजों में गेस्ट फैकेल्टी के बल पर बच्चों का भविष्य चल रहा है। बच्चों में शिक्षा की गुणवक्ता भी प्रभावित हो रही है। इसके साथ ही छात्र-छात्राएं राज्य में कम होती नौकरी के अवसरों से भी काफी परेशान है। कॉलेज कैंपस में ही छात्राएं सुरक्षित नहीं है। ऐसे में कॉलेज में हमारी शिक्षा प्रभावित हो रही है। वहीं कई छात्र ऐसे हैं जो काफी दूर से रोज क्लास करने आते हैं। मगर अक्सर क्लास नहीं होने की वजह से उन्हें निराश होकर लौटना पड़ता है। मुझे उम्मीद है कि ये सरकार शिक्षा और महिला सुरक्षा के मुद्दे पर कुछ जरूर करेगी।

प्रियंका कुमारी, छात्रा हमारे यहां पलायन सबसे बड़ी समस्या है। ये समस्या तब तक नहीं संभल सकती है जब तक यहां युवाओं के रोजगार की व्यवस्था नहीं की जाये। हमें उम्मीद है कि सरकार युवाओं को बेहतर रोजगार के अवसर देने के लिए बजट में कुछ करेगी। इसके साथ ही उद्योग धंधे को बढ़ाने के लिए भी कुछ होगा।

बिक्की कुमार, छात्र स्कूलों से लेकर कॉलेज तक की शिक्षा पूरी तरह से प्रभावित है। हमारे यहां शिक्षा की गुणवक्ता नहीं होने से छात्र देश स्तर की परीक्षा में पिछड़ रहे हैं। सरकार से उम्मीद है कि वो शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए कुछ करेगी। इसके साथ ही रांची के बाहर के इलाके में भी कुछ अच्छे कॉलेज खोले जाएंगे।

दिनकर आनंद, छात्र मैं सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हूं। मगर सरकारी वैकेंसी नहीं आ रही है। बजट में उम्मीद है कि सरकारी ऑफिस में खाली पदों पर नियुक्ति की जाएगी। इसके साथ ही गरीब छात्रों के लिए उच्च शिक्षा में ज्यादा अवसर प्रदान करने पर भी विचार किया जायेगा।

जयकिशन कुशवाहा, छात्र कई छात्र रोजगार परक कोर्स करके घर में बेकार बैठे हैं। ऐसे में हमें उम्मीद है कि सरकार उद्योग धंधे को बढ़ावा देगी। इससे छात्रों के लिए नौकरी के नए अवसर बनेंगे। इसके साथ ही कॉलेज में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने पर भी ध्यान दिया जाएगा।

अखिलेश त्रिपाठी, छात्र

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस