जागरण संवाददाता, रांची : आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आम लोगों की खाद्य सुरक्षा, किसानों के कल्याण और आत्मनिर्भर भारत के लिए सरकार संकल्पित है। वर्ष 2024 तक सभी लाभकारी योजनाओं के तहत फोर्टीफाइड राइस का वितरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि झारखंड में खाद्य भंडारण क्षमता 4.45 लाख मीट्रिक टन हो गया है, जो 2015 में 2.32 लाख मीट्रिक टन था। झारखंड राज्य में भंडारण क्षमता बढ़ाने के लिए चतरा में एक हजार मीट्रिक टन गोदाम, गोड्डा जिला में एक हजार मीट्रिक टन गोदाम निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रियाधीन है। दुमका में भी एक हजार मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम निर्माण का कार्य स्वीकृत कर दिया गया है, जिसके लिए झारखंड सरकार से जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया जारी है। आर्यभटट सभागार में वीसी का आयोजन किया गया था।केंद्रीय मंत्री ने कहा कि स्वामीनाथन कमेटी लागू कर लागत के डेढ़ गुणा ज्यादा न्यूनतम समर्थन मूल्य तय कर खरीदारी कर रहे हैं। वर्ष 2021-22 में केंद्र सरकार ने झारखंड के साथ मिलकर 5.44 लाख मीट्रिक टन चावल अधिप्राप्ति का लक्ष्य रखा है, जिससे किसानों के कल्याण और आत्मनिर्भर झारखंड बनाने की मुहिम में बल मिलेगा।कार्यक्रम का शुभारंभ सांसद संजय सेठ ने किया। इस मौके पर भारतीय खाद्य निगम, कार्यकारी निदेशक पूर्वी अंचल, डॉ. अजित कुमार सिन्हा, विधायक सीपी सिंह, पूर्व सांसद, हजारीबाग यदुनाथ पांडे सहित अन्य उपस्थित थे। कार्यक्रम के दौरान लाभार्थियों को 5-5 किलो चावल का पैकेट वितरित किया गया।

Edited By: Jagran