जागरण संवाददाता, रांची : झारखंड राज्य अवर वन सेवा संघ का राजभवन के समक्ष आमरण अनशन दूसरे दिन मंगलवार को भी जारी रहा। इस आमरण अनशन में संघ के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद, जोनल मंत्री वीरेंद्र सिंह, भूपेंद्र प्रसाद तथा भूपेंद्र कुमार बैठे हैं। चारों अनशनकारियों ने यह संकल्प लिया है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होती तब तक उनका आमरण अनशन जारी रहेगा।

16 सूत्री मांगों को लेकर कर रहे आंदोलन

धरना प्रदर्शनकारियों की मांग है कि नवनियुक्त वनरक्षियों को योग्यता एवं अहर्ता के हिसाब से 2800 ग्रेड पे आधारित वेतनमान का लाभ, बायोमेट्रिक सिस्टम को समाप्त करने, प्रधान वनरक्षी के पद को विलोपित करते हुए सभी वनरक्षियों को सीधे वनपाल के पद पर प्रोन्नति का लाभ सहित अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

सेवानिवृत्त वनरक्षी एवं झारखंड राज्य अवर वन सेवा संघ के राज्य अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि वन आरक्षी दस तारीख से ही धरना प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन उनकी मांग पर सरकार ने ध्यान नहीं दिया है। इससे अजीज आकर सरकार से अपनी मांगे मनवाने के लिए वे आमरण अनशन करने को बाध्य हुए हैं।

बायोमेट्रिक सिस्टम से हाजरी बनाने में होती है परेशानी

भूपेंद्र प्रसाद ने कहा कि उनका ब्रांच ऑफिस रांची में है जबकि उनकी ड्यूटी यहां से सौ किलोमीटर दूर लगी होती है। ऐसे में प्रतिदिन यहां आकर बायोमेट्रिक से हाजिरी बनाने में दिक्कत होती है। उद्यमियों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड आज लगाएगा शिविर

जागरण संवाददाता, रांची: राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड बुधवार को चैंबर भवन में हेल्पडेस्क लगाकर उद्यमियों की समस्याएं सुन कर उनके समाधान का प्रयास करेगा। यह शिविर चैंबर भवन में सुबह 11 से दोपहर दो बजे तक लगेगा। इसमें उद्यमी प्रदूषण से संबंधित, सीटीओ, सीटीई से जुड़ी समस्याओं को बता सकते हैं।

चैंबर के पॉल्यूशन उप समिति चेयरमेन मुकेश कुमार ने यह जानकारी दी। चैंबर महासचिव धीरज तनेजा ने शिविर में अधिक से अधिक व्यापारियों व उद्यमियों से उपस्थित रहने की अपील की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस