रांची, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन मंगलवार को नई दिल्ली के लिए रवाना हुए। वहां वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगे। अटकलें लगाई जा रही है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन झारखंड मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं। मंत्रिमंडल में एक पद रिक्त है। जानकारी के मुताबिक बुधवार को नई दिल्ली में वे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह समेत अन्य वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगे। इस दौरान मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चा हो सकती है। इसके अलावा बोर्ड और निगमों के गठन को लेकर भी कांग्रेस आलाकमान से बातचीत संभावित है।

फिलहाल झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व में चल रही सरकार में झामुमो के पास मुख्यमंत्री के अलावा मंत्रियों के पांच पद हैं। जबकि कांग्रेस से चार और राजद से एक मंत्री मंत्रिमंडल में हैं। मंत्रिमंडल में 12वां पद रिक्त है। कांग्रेस कोटे से एक और मंत्री को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। यह भी संभावना है कि कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व कांग्रेस कोटे के मंत्रियों की जिम्मेदारी बदले अथवा नए विधायकों को मौका प्रदान करे। यह भी कयास लगाया जा रहा है कि कांग्रेस कोटे के दो मंत्रियों को ड्राॅप किया जा सकता है।

नमन विक्सल कोंगाड़ी और प्रदीप यादव रेस में

हेमंत सोरेन मंत्रिमंडल में 12वें मंत्री को लेकर भी कयास लगाए जा रहे हैं। इसमें कोलेबिरा के विधायक नमन विक्सल कोंगाड़ी का नाम आगे चल रहा है। बताया जाता है कि कोंगाड़ी नई दिल्ली में हैं, लेकिन उन्होंने जागरण से बातचीत में इससे इन्कार किया। कहा कि वे अपने क्षेत्र में हैं। पोड़ैयाहाट के विधायक प्रदीप यादव का नाम भी चर्चा में है। यादव कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं, लेकिन निर्वाचन आयोग से अभी इसकी मान्यता नहीं मिली है। विस्तार की संभावना के मद्देनजर बुधवार को कांग्रेस के कई विधायक नई दिल्ली की राह पकड़ सकते हैं।

नई दिल्ली में सरकार और संगठन की रिपोर्ट देने पहुंचे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रामेश्वर उरांव

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव सांसद मंगलवार को राज्यसभा सदस्य धीरज प्रसाद साहू के साथ नई दिल्ली पहुंचे। उन्होंने वहां संगठन प्रभारी केसी वेणुगोपाल से मुलाकात कर सरकार और संगठन की रिपोर्ट दी। उरांव ने वेणुगोपाल के साथ राष्ट्रव्यापी आउटरीच अभियान कार्यक्रम की सफलता को लेकर भी चर्चा की। संगठन में वापस आए पूर्व विधायकों और सीनियर नेताओं की भूमिका तय करने पर भी इस दौरान चर्चा होने की बातें की जा रही हैं।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. अजय कुमार, सुखदेव भगत और प्रदीप कुमार बलमुचू की पार्टी में वापसी के बाद उनकी कोई खास भूमिका नहीं तय हो सकी है। माना जा रहा है कि शीघ्र ही इन नेताओं को पार्टी में कोई अलग जिम्मेदारी दी जाए। मंगलवार को नई दिल्ली में रामेश्वर उरांव ने संगठन प्रभारी को आश्वस्त किया है कि आउटरीच कार्यक्रम के तहत कोविड प्रभावित और मृतक परिवार के सदस्यों का डाटा एकत्रित किया जाएगा।

लक्ष्य को 30 दिनों में पूरा कर लिया जाएगा। इस सर्वे में पार्टी के सांसद, विधायक, मंत्री, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक एवं सभी वरिष्ठ कांग्रेस जनों को लगाया गया है। डाॅ. उरांव ने बताया कि इसके लिए रणनीति बनाई गई है एवं कंट्रोल रूम का भी गठन किया जा चुका है। उरांव दो दिवसीय दौरे के क्रम में अपना रूटीन चेकअप भी कराएंगे।

Edited By: Sujeet Kumar Suman