संसू, खलारी : सरस्वती विद्या मंदिर करकट्टा में संस्कृति महोत्सव मनाया गया। प्रधानाचार्य शालिग्राम सिंह ने मा शारदे व भारत माता के चित्र पर माल्यार्पण व पुष्प चढ़ाकर उद्घाटन किया। प्रतियोगिता के प्रमुख आचार्य चंद्रभूषण सिंह ने प्रतियोगिता के विषय पर प्रकाश डाला। प्रधानाचार्य ने भैया-बहनों को आशीर्वचन देते हुए प्रतियोगिता में पूछे जाने वाले विषयों की जानकारी दी। कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से भारतीय संस्कृति के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। प्रतियोगिता में शिशु वर्ग, बाल वर्ग, किशोर वर्ग व तरुण वर्ग के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। शिशु और बाल वर्ग में कथा-कथन का विषय, वस्तु-ऐतिहासिक घटना व पौराणिक प्रेरणादायक घटना पर आधारित था। किशोर और तरुण वर्ग के लिए तात्कालिक भाषण का विषय, समसामयिक घटना थी। आचायरें के लिए पत्र वाचन का विषय, आचार्य भारतीय संस्कृति का पोषक कैसे बने था। प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वालों में शिशु वर्ग में कक्षा पंचम की छात्रा रिया कुमारी व आरोही कुमारी रही। बाल वर्ग में कक्षा सप्तम की छात्रा रेखा कुमारी एवं कक्षा अष्टम का छात्र रमन राज, किशोर वर्ग में कक्षा दशम की छात्रा अनन्या कुमारी और काजल कुमारी, तरुण वर्ग में कक्षा द्वादश की छात्रा निधि सिंह और ऋतु सिंह रही। वहीं, शिक्षकों में संजीव कुमार सिंह का नाम शामिल है। प्रतियोगिता के सफल संचालन के लिए विद्यालय स्तर पर निर्णायक टीम का गठन किया गया। इसमें अरविंद कुमार सिंह, गौरीशकर कामिला, पूनम पाठक और टाइम-कीपर राकेश कुमार राय शामिल थे। चयनित प्रतिभागी रविवार को सरस्वती शिशु विद्या मंदिर डकरा में आयोजित संकुल स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लेंगे। इस अवसर पर विद्यालय के आचार्य पुरुषोत्तम कुमार सिंह, सियाराम सिंह, दिलीप शर्मा, श्रीकात शर्मा, गोविंद चौहान, उमेश कुमार, संध्या सिन्हा आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran