रांची, जेएनएन। राजधानी रांची सहित झारखंड में लोक आस्था के महापर्व छठ श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। पूरा प्रदेश छठ के रंगा दिखा। छठ छाटों पर व्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया। सीएम रघुवर दास छठ के अवसर पर जमशेदपुर के सूर्य मंदिर में संध्या अर्घ्य में शामिल हुए। सीेएम ने ट्वीट में लिखा है कि सूर्य देव अपनी असीम ऊर्जा से आप सबके जीवन को प्रकाशवान एवं ऊर्जावान बनाएं, यही कामना करता हूं। इससे पहले सुबह सीएम ने छठ पर सूर्य मंदिर में भगवान सूर्यदेव की पूजा अर्चना की और शहर के तमाम छठ घाटों का निरीक्षण भी किया।

घाटों पर छठ के भक्ति गीत गूंजे 
रांची में घाटों पर छठ के भक्ति गीत गूंजते रहे। प्रशासन के अधिकारी भी पूरे पर्व को बिना किसी बाधा के पूर्ण करने में जुटे रहे। इससे पहले उपायुक्त राय महिमापत रे, एसडीओ गरिमा सिंह, एसएसपी अनीश गुप्ता सहित छठ पूजा समिति के सदस्यों ने छठ घाटों का निरीक्षण किया। धुर्वा डैम बड़ा तालाब नक्षत्र वन रॉक गार्डन स्थित घाटों का निरीक्षण किया गया। 

छठ की आराधना में डूबा कोयलांचल
लोक आस्था का महापर्व छठ की आराधना में धनबाद कोयलांचल डूबा हुआ है। धनबाद शहरी क्षेत्र समेत पूरे जिले में लाखों छठ व्रती सूर्योपासना में लीन हैं। तालाब, पोखर और नदियों के किनारे इकट्ठा होकर व्रतियों ने डूबते सूर्य की उपासना की। धनबाद शहर में बेकार बांध तालाब, रानी बांध तालाब, मनईटांड छठ तालाब, झरिया राजा तालाब घाट पर हजारों की संख्या में व्रती और श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी।

मंगलवार को अपरान्ह तीन बजे के बाद व्रती अपने-अपने घरों से छठ घाट की तरफ निकल पड़े। मैथन डैम और पंचेत डैम घाट पर भी हजारों की संख्या में व्रतियों और श्रद्धालुओं की भीड़ मौजूद रही। सूर्योपासना का यह चार दिवसीय कठिन पर्व रविवार को नहाय-खाय के साथ शुरू हुआ। सोमवार को खरना था। मंगलवार को डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया गया। बुधवार उगते हुए सूर्य को अघ्र्य के साथ महापर्व का समापन होगा।

कोडरमा के चारडीह घाट के लिए दउरा लेकर जाती राजद प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी।

लोहरदगा में छठ महापर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए कोयल नदी छठ घाट में बनाया गया आकर्षक सूर्य मंदिर।

छठ पर्व पर हजारीबाग झील का सुंदर नजारा।

दुमका के खूंटा बांध तालाब का नजारा।

सीएम रघुवर दास ने भगवान सूर्यदेव की पूजा कर छठ घाटों का किया निरीक्षण 
सीएम रघुवर दास ने मंगलवार सुबह सूर्य मंदिर में भगवान सूर्यदेव की पूजा-अर्चना की। इसके बाद सीएम ने शहर के तमाम छठ घाटों का निरीक्षण भी किया। सीएम ने ट्वीट कर छठ की शुभकामनाएं दी हैं।

 

छठ हमारी सभ्यता का अनूठा पर्व जहां डूबते सूर्य की होती पूजा: मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि छठ प्रकृति से जुड़ने का पर्व है। यह हमारी सभ्यता में ऐसा अनूठा पर्व है, जहां डूबते हुए सूर्य की आराधना कर प्रणाम किया जाता है। उन्होंने कहा कि छठ भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है। मुख्यमंत्री सोमवार को बारीडीह बस्ती स्थित भोजपुर कॉलोनी में छठ घाट सह रघुवर पार्क का उद्घाटन के अवसर पर लोगों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि इस पर्व की शुद्धता और पवित्रता की महिमा इतनी है कि अन्य धर्म के लोग भी श्रद्धा के साथ इस पर्व को मनाते हैं। भगवान भास्कर के साक्षात दर्शन कर श्रद्धालु सूर्य उपासना करते हैं। पूरी स्वच्छता एवं पवित्रता के साथ कठोर तपस्या से जो इस कठिन छठ व्रत को मना रहे हैं उन छठ व्रत धारियों के लिए झारखंड सरकार की ओर से यह मनोकामना है कि भगवान भास्कर उनके परिवार, समाज और राज्य को सुख, समृद्धि और आरोग्य प्रदान करें। सूर्य की महिमा हमारे जीवन और पूरे जगत से जुड़ी हुई है। सूर्य के बिना सृष्टि की कल्पना नहीं की जा सकती। मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान सूर्य शक्ति एवं प्रकाश का प्रतीक हैं। भगवान सूर्य इतनी शक्ति प्रदान करें कि हर गरीब का बेटा भी अच्छे स्कूल में पढ़े, उन्हें बेहतर इलाज की सुविधा मिले और मुस्कान के साथ अच्छे पार्क में घूमे। इसी को ध्यान में रखकर बारीडीह बस्ती में पार्क बनाया गया है।

 

उपायुक्त राय महिमापत रे, एसडीओ गरिमा सिंह, एसएसपी अनीश गुप्ता सहित छठ पूजा समिति के सदस्य गणों के साथ छठ घाटों का निरीक्षण करने रांची के आस पास के डैम व छठ घाटों में पहुंचे। धुर्वा डैम बड़ा तालाब नक्षत्र वन रॉक गार्डन स्थित बैंक का निरीक्षण किया गया।

हजारीबाग में छठ घाटों का निरीक्षण करते डिप्टी मेयर राजकुमार लाल।

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस